Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2023 · 1 min read

प्रकृति का विनाश

जो आजाद है उसे आजाद ही रहने दो।
जो जिसका घर है उसके घर में ही रहने दो।

माना कि तुम बुद्धि में सर्वश्रेष्ठ हो।
पर तुम किसी का घर ना तोड़ो।

कितने बनाओगे बिल्डिंग जंगलों को काट के
जब कोई बच ही नहीं पाएंगे ।
तो क्या करोगे रहके अकेले अपने आप के

अब सब विलुप्त होते जा रहा है।
एक मानव ही है जिसका वृद्धि हो रहा है।

ऐसा ना हो की सिर्फ मानव ही रह जाए।
बाकी शेष कुछ न बच पाए।

सुशील कुमार चौहान
फारबिसगंज अररिया बिहार

Language: Hindi
216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
आम आदमी का शायर
आम आदमी का शायर
Shekhar Chandra Mitra
"गर्दिशों ने कहा, गर्दिशों से सुना।
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐Prodigy Love-39💐
💐Prodigy Love-39💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मेरे कलाधर
मेरे कलाधर
Dr.Pratibha Prakash
2486.पूर्णिका
2486.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
दिल की भाषा
दिल की भाषा
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Sakshi Tripathi
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
उसकी अदा
उसकी अदा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
साया ही सच्चा
साया ही सच्चा
Atul "Krishn"
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
नव लेखिका
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल  ! दोनों ही स्थितियों में
परिस्थितियां अनुकूल हो या प्रतिकूल ! दोनों ही स्थितियों में
तरुण सिंह पवार
गुरु माया का कमाल
गुरु माया का कमाल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
तुम्हारा दूर जाना भी
तुम्हारा दूर जाना भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...