Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन

प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
ईश्वर का हम पर उपकार है जीवन
कैसे कह दूं जीवन में कोई रंग नहीं है
विविध रंगों से भरा संसार है जीवन

संजय श्रीवास्तव
29 अक्टूबर 2023

191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
पूर्वार्थ
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*ऑंखों के तुम निजी सचिव-से, चश्मा तुम्हें प्रणाम (गीत)*
*ऑंखों के तुम निजी सचिव-से, चश्मा तुम्हें प्रणाम (गीत)*
Ravi Prakash
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
Dr fauzia Naseem shad
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
"जीत सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2932.*पूर्णिका*
2932.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"एक दीप जलाना चाहूँ"
Ekta chitrangini
◆ कीजिए अमल आज से।
◆ कीजिए अमल आज से।
*प्रणय प्रभात*
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
कवि दीपक बवेजा
अपने साथ चलें तो जिंदगी रंगीन लगती है
अपने साथ चलें तो जिंदगी रंगीन लगती है
VINOD CHAUHAN
मानव जीवन की बन यह पहचान
मानव जीवन की बन यह पहचान
भरत कुमार सोलंकी
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
होटल में......
होटल में......
A🇨🇭maanush
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
Sonam Puneet Dubey
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...