Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

“प्यासा” “के गजल”

“प्यासा” “के गजल”
टुटेगा जब दिल ,वफा जान जाओगे।
तोड़ने का फलसफा जान जाओगे।
यूं हँसते नही तो अच्छा था मुझपे ,
इक दिन नुकसान नफा जान जाओगे।
क्या होता है बढ़ती उम्र में जीना
समझोगे तुम दबदबा जान जाओगे।
यूं जीना ढीठ होता कितना अच्छा ,
दिल की जली हरदगा जान जाओगे ।
–“प्यासा”

119 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उम्मीद.............एक आशा
उम्मीद.............एक आशा
Neeraj Agarwal
💐 Prodigi Love-47💐
💐 Prodigi Love-47💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बेवकूफ हम या गालियां"
Dr Meenu Poonia
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Rang hi khuch aisa hai hmare ishk ka , ki unhe fika lgta hai
Sakshi Tripathi
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
पक्की छत
पक्की छत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
किसान का दर्द
किसान का दर्द
Tarun Singh Pawar
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
दिल से करो पुकार
दिल से करो पुकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ये तनहाई
ये तनहाई
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
.......शेखर सिंह
.......शेखर सिंह
शेखर सिंह
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मेरी बेटी मेरा अभिमान
मेरी बेटी मेरा अभिमान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
"बड़ पीरा हे"
Dr. Kishan tandon kranti
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
मुक्त्तक
मुक्त्तक
Rajesh vyas
Loading...