Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

प्यार हुआ कैसे और क्यूं

प्यार हुआ कैसे और क्यूं
न तुम्हे पता न हमें पता ।
दीदार हुआ कैसे और क्यूं
न तुम्हे पता न हमे पता ।
बस हो गया ये काफी है,
इजहार हुआ कैसे और क्यूं
न तुम्हे पता न हमें पता ।

543 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का अवसान*
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का अवसान*
Ravi Prakash
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
तुम
तुम
Sangeeta Beniwal
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
मुक्तक ....
मुक्तक ....
Neelofar Khan
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
Keshav kishor Kumar
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
भावुक हृदय
भावुक हृदय
Dr. Upasana Pandey
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
दुम
दुम
Rajesh
2977.*पूर्णिका*
2977.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या आसमां और क्या जमीं है,
क्या आसमां और क्या जमीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
जीवन जीते रहने के लिए है,
जीवन जीते रहने के लिए है,
Prof Neelam Sangwan
गुमनाम ज़िन्दगी
गुमनाम ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
दानवता की पोषक
दानवता की पोषक
*प्रणय प्रभात*
प्रेम ईश्वर
प्रेम ईश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
VINOD CHAUHAN
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...