Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2016 · 1 min read

प्यार से दिल का भरा भंडार है!

रौशनी का ईद जो त्यौहार है।
प्यार से दिल का भरा भंडार है।

चाँद तुमको क्यों अधूरा यूँ दिखे,
देख ले इसमें भरा जो प्यार है।

कौन देगा अब मुझे रोटी यहाँ,
वक्त इतना आज क्यों लाचार है।

सब लुटेरे है यहाँ अब ए खुदा!
क्या यही तेरा भला संसार हैं।

ख्वाब हमने जो सजाया था कभी,
तुम कहो क्या वो तुम्हे इकरार है।

वक्त ही बहता रहा है जो सदा,
बस यही सच्चा यहाँ किरदार है।

जीत जाएंगे निभाकर हम वफ़ा,
फिर तुम्हारी क्यों रही ये हार है।

हम फकत तेरे लिये हैं जी रहे,
आज भी ये दिल बड़ा खुद्दार है।

वो शहर तो याद है अब भी हमें,
बस ख़ुशी का ही जहाँ बाजार है।

चाहता हूँ भूल जाऊँ मैं तुम्हे,
पर हमारा दिल बड़ा गद्दार है।

जिंदगी भर ये शुभम् आबाद हो,
वक्त से तो बस यही दरकार है।

305 Views
You may also like:
देश के गद्दार
Shekhar Chandra Mitra
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
माना हम गरीब हैं।
Taj Mohammad
सट्टेबाज़ों से
Suraj kushwaha
# पैगाम - ए - दिवाली .....
Chinta netam " मन "
अब अरमान दिल में है
कवि दीपक बवेजा
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
जो हुआ अच्छा, जो हो रहा है अच्छा, जो होगा...
Uday kumar
कुनमुनी नींदे!!
Dr. Nisha Mathur
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu hai na'
*"परिवर्तन नए पड़ाव की ओर"*
Shashi kala vyas
तुझसे रूबरू होकर,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
माँ का एहसास
Buddha Prakash
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
🙏माता ब्रह्मचारिणी🙏
पंकज कुमार कर्ण
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*इशारा उसका काफी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मै लाल किले से तिरंगा बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
Deepak Kumar Tyagi
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️सत्ता का नशा✍️
'अशांत' शेखर
बारिश
Saraswati Bajpai
लगवाई वैक्सीन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...