Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

प्यार जताना न आया

अफ़सोस है कि प्यार जताना न आया हमे
अफ़सोस है कि हमने क्यों न मनाया तुम्हे
अफ़सोस है कि प्यार जताना
हैं तन्हाँ अभी हम पहले कभी ऐसा न हुआ
या रूसवा हो तुम पहले कभी ऐसा न हुआ
अफ़सोस है कि हमने क्यों न मनाया तुम्हे
अफ़सोस है कि प्यार जताना……………..
हर घड़ी याद करके तुम्हे यूँ दिल जलाते हैं
वो लम्हे बिताए संग थे कभी न भूल पाते हैं
अफ़सोस है कि हमने क्यों न मनाया तुम्हे
अफ़सोस है कि प्यार जताना……………..
हमको न कोई आरजू अब न कोई जुस्तजू
‘विनोद’ तुम ही हो मेरे इस दिल की आबरू
अफ़सोस है कि हमने क्यों न मनाया तुम्हे
अफ़सोस है कि प्यार जताना……………..

स्वरचित
( विनोद चौहान )

5 Likes · 591 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
"गम का सूरज"
Dr. Kishan tandon kranti
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
संस्कारों का चोला जबरजस्ती पहना नहीं जा सकता है यह
संस्कारों का चोला जबरजस्ती पहना नहीं जा सकता है यह
Sonam Puneet Dubey
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
अब हक़ीक़त
अब हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
.
.
Ragini Kumari
🙅आज का विज्ञापन🙅
🙅आज का विज्ञापन🙅
*प्रणय प्रभात*
एक इत्तफाक ही तो था
एक इत्तफाक ही तो था
हिमांशु Kulshrestha
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
आम की गुठली
आम की गुठली
Seema gupta,Alwar
Quote Of The Day
Quote Of The Day
Saransh Singh 'Priyam'
सात जन्मों की शपथ
सात जन्मों की शपथ
Bodhisatva kastooriya
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
*सावन में अब की बार
*सावन में अब की बार
Poonam Matia
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
पुष्पदल
पुष्पदल
sushil sarna
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पैमाना सत्य का होता है यारों
पैमाना सत्य का होता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
3412⚘ *पूर्णिका* ⚘
3412⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...