Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

मेरे मोहसिन नज़्म

मेरे मोहसिन नज़्म
Nazam
मेरे मोहसिन तुम्हारी फ़िक्र मे दिन रात घुलती हूं.
मैं अदना सी वो लड़की हूं जो तुमसे प्यार करती हूं
मेरे मोहसिन तुम्हारी हर अदा पे सदके जाऊं मैं.
मुहब्बत हो गई मुझको सुकूँ अब कैसे पाऊं मैं..
हो चारागर बहुत पहुँचे, शफ़ा है जिसके हाथों में
मर्ज़ को दूर कर देते हो क्या तुम अपनी बातों से..
सुनों दो बात मुझसे भी करो,पूछो मैं कैसी हूं..
चलो मैं ही बताती हूं . मैं बिन पानी के जैसी हूं.
तेरे झूठे से वादों की बदौलत खिल रही हूं मै..
तुम्हारी ज़िन्दगी में संग सी बोझिल रही हूं मै..
गिला कुछ भी नही तुमसे तुम्हारा साथ काफ़ी है..
जगह दिल मे नहीं देते तो बस ये हाथ काफ़ी है..
मेरे मोहसिन तुम शामिल हो मेरी इस ज़िन्दगी में यू.
नई सुबह की बारिश को लबों की तिश्नगी हो ज्यूँ
मेरी आँखों के दरियाँ में उतर कर देख लो इक दिन.
अना सारी ये दरियाँ मे ही आकर फेंक दो इक दिन
कभी आके यू ही तन्हाई में;तुम महसूस करना ये दिल
कभी क्या साथ चलने से मिलेगी हमको वो मंज़िल.
सुनो मोहसिन मुझे अच्छा लगेगा आपका आना.
यक़ीनन आ गये गर तो नहीं तुमको कही जाना.
सुनो दरवेश अब मेरे, खड़े क्यों द्वार पे मेरे
चले आओ बुलाती हूं ,करो तुम पार ये घेरे.
मैं आँचल को बिछाकर कर रही हूं आप का स्वागत.
चले आओ भ्रमर मैला नही है .. प्रेम का ये पथ.
@मनीषा जोशी

.

414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गांव का दृश्य
गांव का दृश्य
Mukesh Kumar Sonkar
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
माँ की करते हम भक्ति,  माँ कि शक्ति अपार
माँ की करते हम भक्ति, माँ कि शक्ति अपार
Anil chobisa
भटकता पंछी !
भटकता पंछी !
Niharika Verma
2432.पूर्णिका
2432.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*चले जब देश में अनगिन, लिए चरखा पहन खादी (मुक्तक)*
*चले जब देश में अनगिन, लिए चरखा पहन खादी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
सुनो, मैं जा रही हूं
सुनो, मैं जा रही हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
"विचार-धारा
*प्रणय प्रभात*
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
हम जानते हैं - दीपक नीलपदम्
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
"मयकश"
Dr. Kishan tandon kranti
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हर इश्क में रूह रोता है
हर इश्क में रूह रोता है
Pratibha Pandey
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
प्रेम और घृणा से ऊपर उठने के लिए जागृत दिशा होना अनिवार्य है
Ravikesh Jha
प्यार दीवाना ही नहीं होता
प्यार दीवाना ही नहीं होता
Dr Archana Gupta
इम्तिहान
इम्तिहान
Saraswati Bajpai
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
आंसुओं के समंदर
आंसुओं के समंदर
अरशद रसूल बदायूंनी
Colours of Life!
Colours of Life!
R. H. SRIDEVI
*शर्म-हया*
*शर्म-हया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सब कुछ हमे पता है, हमे नसियत ना दीजिए
सब कुछ हमे पता है, हमे नसियत ना दीजिए
पूर्वार्थ
उम्मीद
उम्मीद
शेखर सिंह
घर पर घर
घर पर घर
Surinder blackpen
आज़ के पिता
आज़ के पिता
Sonam Puneet Dubey
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
Loading...