Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2016 · 1 min read

प्यार को प्यार दिलाया जाये

प्यार को प्यार दिलाया जाये
इस तरह क़र्ज़ चुकाया जाये

नाँव कागज़ की बना कर उसमें
मन है बचपन को घुमाया जाये

कैसे खामोश लबों को रख
राज नैनों से छिपाया जाये

दूर तक साथ चला करता है
रिश्ता गर दिल से निभाया जाये

मार कर दिल नहीं मिलती खुशियाँ
क्यों बिना बात दबाया जाये

अर्चना वक़्त मिला जो हमको
मौज से क्यों न बिताया जाये

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

1 Like · 4 Comments · 534 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
*लोकतंत्र में होता है,मतदान एक त्यौहार (गीत)*
*लोकतंत्र में होता है,मतदान एक त्यौहार (गीत)*
Ravi Prakash
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
****प्राणप्रिया****
****प्राणप्रिया****
Awadhesh Kumar Singh
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
"अजीज"
Dr. Kishan tandon kranti
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ Rãthí
** समय कीमती **
** समय कीमती **
surenderpal vaidya
मेरा प्रदेश
मेरा प्रदेश
Er. Sanjay Shrivastava
Started day with the voice of nature
Started day with the voice of nature
Ankita Patel
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ चल गया होगा पता...?
■ चल गया होगा पता...?
*Author प्रणय प्रभात*
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dheerja Sharma
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
श्याम सिंह बिष्ट
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
कभी कम नहीं हो यह नूर
कभी कम नहीं हो यह नूर
gurudeenverma198
Loading...