Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 24, 2016 · 1 min read

प्यार को प्यार दिलाया जाये

प्यार को प्यार दिलाया जाये
इस तरह क़र्ज़ चुकाया जाये

नाँव कागज़ की बना कर उसमें
मन है बचपन को घुमाया जाये

कैसे खामोश लबों को रख
राज नैनों से छिपाया जाये

दूर तक साथ चला करता है
रिश्ता गर दिल से निभाया जाये

मार कर दिल नहीं मिलती खुशियाँ
क्यों बिना बात दबाया जाये

अर्चना वक़्त मिला जो हमको
मौज से क्यों न बिताया जाये

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

1 Like · 4 Comments · 312 Views
You may also like:
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
विजय कुमार 'विजय'
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...