Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 2 min read

प्यार की कसम//गीत//

प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम …..

लगता नहीं दिल कहीं अब तो
मौसम भी मुझसे खफा हों गई
मेरी ज़िंदगी अब सजा हों गई
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वो सनम ……1

उम्मीद प्यार के कर तो रहा था
सच कहते हैं तेरे लिये जी रहा था
माना कि कुछ पल दूर था तुमसे
तुझको एक पल भी भूलेंगे ना हम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम…..2

मेरे दिल की बेचैनी को
काश तुम समझी होती
दिल तोड़ के ना तू गई होती
मिल जाता जीने का सहारा वो सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम…..3

बन गई हूँ एक सूखी नदी
खबर ना रहा अब ज़िंदगी की
आ जा ना बनके धारा प्रेम की
आ लिखेंगे प्रेम कहानी हमतुम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम….4

ज़िंदगी की गलियाँ होगी गुलज़ार
तेरे लिये लेंगे जन्म सौ-सौ बार
लुटाने की तमन्ना जान तुझपे यार
ये सच हैं ख्वाब नहीं मेरे सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वो सनम ….5

आ ज़िंदगी को कर दे रोशन
सुलझा तू ज़िंदगी की उलझन
तेरी चाहत की रंग में रंगा हैं मन
तुझे क्या खबर वों बेखबर सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वो सनम….6

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 578 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
#आप_भी_बनिए_मददगार
#आप_भी_बनिए_मददगार
*Author प्रणय प्रभात*
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
बसंत
बसंत
Bodhisatva kastooriya
कैसे कहें घनघोर तम है
कैसे कहें घनघोर तम है
Suryakant Dwivedi
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Tum to kahte the sath nibhaoge , tufano me bhi
Sakshi Tripathi
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
बुढ़ापा अति दुखदाई (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
इक अजीब सी उलझन है सीने में
इक अजीब सी उलझन है सीने में
करन ''केसरा''
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
पूर्वार्थ
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
परमेश्वर का प्यार
परमेश्वर का प्यार
ओंकार मिश्र
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
अनिल कुमार
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
💐प्रेम कौतुक-250💐
💐प्रेम कौतुक-250💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
Shweta Soni
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
Loading...