Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

प्यार की कसम//गीत//

प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम …..

लगता नहीं दिल कहीं अब तो
मौसम भी मुझसे खफा हों गई
मेरी ज़िंदगी अब सजा हों गई
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वो सनम ……1

उम्मीद प्यार के कर तो रहा था
सच कहते हैं तेरे लिये जी रहा था
माना कि कुछ पल दूर था तुमसे
तुझको एक पल भी भूलेंगे ना हम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम…..2

मेरे दिल की बेचैनी को
काश तुम समझी होती
दिल तोड़ के ना तू गई होती
मिल जाता जीने का सहारा वो सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम…..3

बन गई हूँ एक सूखी नदी
खबर ना रहा अब ज़िंदगी की
आ जा ना बनके धारा प्रेम की
आ लिखेंगे प्रेम कहानी हमतुम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वों सनम….4

ज़िंदगी की गलियाँ होगी गुलज़ार
तेरे लिये लेंगे जन्म सौ-सौ बार
लुटाने की तमन्ना जान तुझपे यार
ये सच हैं ख्वाब नहीं मेरे सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वो सनम ….5

आ ज़िंदगी को कर दे रोशन
सुलझा तू ज़िंदगी की उलझन
तेरी चाहत की रंग में रंगा हैं मन
तुझे क्या खबर वों बेखबर सनम
प्यार की कसम
आ जा लौट के सनम
खज़ा आ गई हैं ज़िंदगी में
तेरा जाने से वो सनम….6

2 Likes · 406 Views
You may also like:
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
विजय कुमार 'विजय'
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
संत की महिमा
Buddha Prakash
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
Loading...