Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 2 min read

प्यार की कलियुगी परिभाषा

प्यार कभी भी सिर्फ प्यार नहीं होता है
थोड़ा प्यार और ज्यादा स्वार्थ होता है ,

सुबह गरम चाय की प्याली मिल जाये
बिस्तर पर ही खाने की थाली मिल जाये ,

फिर तो शब्दों की गठरियाँ खोली जायेगीं
उनमें से चुन चुन कर तारीफें बोली जायेगीं ,

ढ़ेरों तारीफों के बाद अगर गलती हो जाये
ज़लील करने का एक मौका ना छोड़ा जाये ,

लोहे वाले रोबोट के सीने में तो दिल नहीं होता
इंसान वाले रोबोट में तो बाखूबी मौजूद होता ,

अब तो प्यार भी रोबोट के चिप में डाला जाता है
बटन दबाकर उसको प्यार करने को कहा जाता है ,

लोहे वाले की चिंता होती है खराब ना हो जाये
इंसान वाले का क्या है वो मुआ भाड़ में जाये ,

बिना हीलिंग ऑयलिगं के चलना भी कमाल है
ज़रा सा तबियत नासाज़ हो जाये तो बवाल है ,

ज़रूरतों की आपूर्ति करने वाला ही लाचार है
उसके बारे में सोचना तो एकदम बेकार है ,

इस थोड़े से प्यार में भी वफादारी होती है
ज्यादा स्वार्थ में तो बस दुनियादारी होती है ,

ये प्यार और स्वार्थ का जो जटिल व्यूह है
महाभारत से भी ज्यादा खतरनाक चक्रव्यूह है ,

इस चक्रव्यूह में किसी को मारा नहीं जाता
बस थोड़े से प्यार में ज्यादा स्वार्थ साधा जाता ,

हर रिश्ते में स्वार्थ ही अब तो सर्वोपरि है
प्यार कहाँ बचा है वो तो सिर्फ ऊपरी है ,

कहते हैं अपनों में स्वाभाविक प्यार होता है
वो त्रेता था वर्तमान को कलियुग कहा जाता है ,

हम इंसानों से अच्छे तो ये लोहे वाले रोबोट हैं
अपने प्रोग्राम के ज़रिए प्यार को करते सपोर्ट हैं ,

इस युग में प्यार की परिभाषा सच में बदल गई है
इतना स्वार्थ देख कर परिभाषा भी दहल गई है।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
*ये आती और जाती सांसें*
*ये आती और जाती सांसें*
sudhir kumar
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
फिर जनता की आवाज बना
फिर जनता की आवाज बना
vishnushankartripathi7
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
धुंध छाई उजाला अमर चाहिए।
Rajesh Tiwari
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Sukoon
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
देख इंसान कहाँ खड़ा है तू
Adha Deshwal
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
धर्म नहीं, विज्ञान चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
Writer_ermkumar
सूखी नहर
सूखी नहर
मनोज कर्ण
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
बचपन
बचपन
Vedha Singh
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
हर गम दिल में समा गया है।
हर गम दिल में समा गया है।
Taj Mohammad
मजबूरी
मजबूरी
The_dk_poetry
Loading...