Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 1 min read

*प्यार का रिश्ता*

कब आओगे मिलने हमसे
कहता रहता हूं यही तुमसे
आ जाओ अब मिलने हमसे
सता रही है ये दूरी तुमसे

तुमसे शुरू होकर तुम में ख़त्म
छुपी नहीं है मेरी हालत तुमसे
हंसी में टाल जाते हो बात मेरी
बता दो कब होगी मुलाक़ात तुमसे

दिन का आगाज़ होता है तेरी याद से
फिर रात को सपने में मुलाक़ात तुमसे
ऐसे ही चल रही है मेरी ज़िंदगी तबसे
जबसे हुई है मेरी मुलाक़ात तुमसे

कब समझेगा तू मेरी हालात
जाने कब मुलाकात होगी तुमसे
कब होगा तू मेरे सामने सनम
कह पाऊं जब मैं दिल की बात तुमसे

सुना है बेचैन हो गया है तू भी आजकल
ये पीड़ा अकेले सही न जाएगी तुमसे
कह दोगे आकार जब तुम दिल की बात
यादगार हो जाएगी वो मुलाकात तुमसे

हो रहा है तेरे दिल में जो दर्द
तुम्हें निजाद दिलाना चाहता हूं उससे
तोड़कर ज़माने के सारे बंधन
ये प्यार का रिश्ता निभाना चाहता हूं तुमसे।

8 Likes · 1 Comment · 2136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
Ravi Prakash
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
"ग से गमला"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
*ज़िंदगी का सफर*
*ज़िंदगी का सफर*
sudhir kumar
2824. *पूर्णिका*
2824. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
Shreedhar
इसके जैसा
इसके जैसा
Dr fauzia Naseem shad
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
मन को मना लेना ही सही है
मन को मना लेना ही सही है
शेखर सिंह
किन्नर व्यथा...
किन्नर व्यथा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गौतम बुद्ध के विचार --
गौतम बुद्ध के विचार --
Seema Garg
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
shabina. Naaz
जून की कड़ी दुपहरी
जून की कड़ी दुपहरी
Awadhesh Singh
परछाई (कविता)
परछाई (कविता)
Indu Singh
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
हाथ कंगन को आरसी क्या
हाथ कंगन को आरसी क्या
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...