Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

प्यार का रिश्ता

क्यों बढ़ती है तकरार।
दिलों में पड़ती है दरार।
आंगन में उठती दीवार।
रखे न कोई सरोकार।
जबकि प्यार का रिश्ता है जन्म का रिश्ता।

कोर्ट में घर की बात।
या गालियों की बरसात।
क्यों छोटी होती औकात।
अनसुलझे से सवालात।
जबकि प्यार का रिश्ता है जन्म का रिश्ता।

बूढ़े होते मां बाप।
भोगते हैं संताप।
हर तरफ आपाधाप।
आस्तीनो में सांप ।
जबकि प्यार का रिश्ता है जन्म का रिश्ता।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
340 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
मंजिल की अब दूरी नही
मंजिल की अब दूरी नही
देवराज यादव
Parents-just an alarm
Parents-just an alarm
Sukoon
#गणतंत्र दिवस#
#गणतंत्र दिवस#
rubichetanshukla 781
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"शून्य-दशमलव"
Dr. Kishan tandon kranti
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
वाह ! डायबिटीज हो गई (हास्य व्यंग्य)
वाह ! डायबिटीज हो गई (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
चल पनघट की ओर सखी।
चल पनघट की ओर सखी।
Anil Mishra Prahari
मेरा दामन भी तार-तार रहा
मेरा दामन भी तार-तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
■ अनुभूत सच
■ अनुभूत सच
*Author प्रणय प्रभात*
3066.*पूर्णिका*
3066.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
पुष्पों का पाषाण पर,
पुष्पों का पाषाण पर,
sushil sarna
NUMB
NUMB
Vedha Singh
कौन सोचता है
कौन सोचता है
Surinder blackpen
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...