Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

प्यार का रिश्ता

हम देखते हैं ख्वाब भी
वो उसमें भी नुख्स निकाल लेते हैं
कुछ और सुनने से पहले
फिर हम अपनी गलती मान लेते हैं

आते नहीं है मिलने खुद
इल्ज़ाम वो हम पर डाल देते हैं
कुछ कहने से पहले हम
उनका मिजाज़ जान लेते हैं

जानते हैं वो प्यार मेरा
फिर भी कभी डोरे डाल देते हैं
यही तो मज़ा है इश्क़ का
हम भी कभी भाव खा लेते हैं

है मन में थोड़ी उदासी आज
हम पल भर में जान लेते हैं
लाख छुपाए वो मुझसे यारों
हम चेहरा देखकर जान लेते हैं

कब क्या सोचता है वो
अब तो हम ये भी जान लेते हैं
दर्द जो भी होता है उसे
अपने दिल में महसूस कर लेते हैं

होती है जो भी नोक झोंक
हम उसे भी प्यार से सुलझा लेते हैं
जानते हैं पतंग हैं हम इस खेल में
फिर भी कभी खुद को मांझी मान लेते हैं

है मनुष्य गलतियों का पुतला
ये कहकर उनसे माफी मांग लेते हैं
जब करता है वो गुस्सा कभी
हम खुद को ही पुतला मान लेते हैं

है यही तो मज़ा इस रिश्ते का
डांट को भी इसमें हम प्यार मान जाते हैं
हो अगर प्यार सच्चा यारों
महबूब के आंसुओं को भी मोती मान जाते हैं।

Language: Hindi
11 Likes · 2 Comments · 1356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
Cottage house
Cottage house
Otteri Selvakumar
मेरे देश की मिट्टी
मेरे देश की मिट्टी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
हम तेरे शरण में आए है।
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
नरक और स्वर्ग
नरक और स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"विपक्ष" के पास
*Author प्रणय प्रभात*
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
shabina. Naaz
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
पंकज प्रियम
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
Phool gufran
बूत परस्ती से ही सीखा,
बूत परस्ती से ही सीखा,
Satish Srijan
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हिंदी
हिंदी
Bodhisatva kastooriya
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
एक विचार पर हमेशा गौर कीजियेगा
शेखर सिंह
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
ढूॅ॑ढा बहुत हमने तो पर भगवान खो गए
VINOD CHAUHAN
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
शिव प्रताप लोधी
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
Mansi Tripathi
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Sakshi Tripathi
Loading...