Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

प्यारी-प्यारी सी पुस्तक

प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
करती है मन पर दस्तक

पढ़ना हमको लगता अच्छा
पढ़कर दिल हो जाता सच्चा

मन लगाकर हम पढ़ेगे
देश का उँचा नाम करेगे

जो नही पढ़ता कहलाये काहिल
भविष्य में वो रह जाता है जाहिल

तेरा मेरा में कुछ नही रखा
संग मिलकर सब रहो सखा

एक साथ सब मिलकर करे वादा
पढ़ लिखकर जीवन जिये सादा

बेसिक शिक्षा का है खजाना
आज से है सभी को बताना

शमा परवीन बहराइच उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
1 Like · 68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरा तकिया
मेरा तकिया
Madhu Shah
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
*Author प्रणय प्रभात*
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वर्तमान लोकतंत्र
वर्तमान लोकतंत्र
Shyam Sundar Subramanian
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
Vindhya Prakash Mishra
यदि चाहो मधुरस रिश्तों में
यदि चाहो मधुरस रिश्तों में
संजीव शुक्ल 'सचिन'
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Sakshi Tripathi
Learn to recognize a false alarm
Learn to recognize a false alarm
पूर्वार्थ
1B_ वक्त की ही बात है
1B_ वक्त की ही बात है
Kshma Urmila
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
ज़िन्दगी की बोझ यूँ ही उठाते रहेंगे हम,
Anand Kumar
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
"खेलों के महत्तम से"
Dr. Kishan tandon kranti
2783. *पूर्णिका*
2783. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
थे कितने ख़ास मेरे,
थे कितने ख़ास मेरे,
Ashwini Jha
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संवेदना बोलती आँखों से 🙏
संवेदना बोलती आँखों से 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...