Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2019 · 2 min read

पौधरोपण

पौधा रोपण
“क्या बात है दद्दू, आप कुछ उदास लग रहे हैं ? कहीं जलन तो नहीं हो रही है न आपको ?” लगभग दो घंटे पहले रोपे गये नन्हे पौधे ने बाजू में खड़े विशाल बरगद के पेड़ से व्यंग्यात्मक लहजे में कहा।
“जलन ? कैसी जलन नन्हे ?” बूढ़े बरगद ने प्यार से पूछा।
“यही कि आज कई व्ही.आई.पी. स्त्री-पुरूष आकर यहाँ बड़े शौक से पौधरोपण किए। ढेर सारी फोटोग्राफी की। खाद-पानी डाले, पर किसी ने आपकी ओर देखा तक नहीं।” नन्हा पौधा बोला।
“मेरे लिए ये कई नई बात नहीं है नन्हे। ऐसा दृश्य इधर लगभग हर साल होता है। यहाँ व्ही.आई.पी. लोग आते हैं, पौधरोपण करते हैं, खूब सारे सेल्फी-वेल्फी लेते हैं। सोसल मीडिया में जमकर शेयर करते हैं और न्यूज चैनल और अखबारों में भी खूब प्रचार-प्रसार करते हैं, पर बाद में पौधों की पूछ-परख शायद ही करते हैं। भले ही ये लोग लंबे-चौड़े संकल्प लें, पर अमल शायद ही….” कहते हुए बूढ़े बरगद की आँखों में आँसू आ गए।
“तो क्या ये लोग अब दुबारा इधर का रूख नहीं करेंगे ?” नन्हे पौधे ने रुँआसे गले से पूछा।
“काश ! करें कोई। वैसे विगत वर्षों में ऐसा किए होते तो, आज इधर घना जंगल हो चुका होता।” बरगद ने अपने अनुभव का सार निचोड़ कर उसके सामने रख दिया।
“फिर आप कैसे ?” नन्हे पौधे ने जिज्ञासावश पूछ लिया।
“किस्मत से बच गया मैं। बरसात के महीनों में रोपा गया था। फिर एक सनकी किसान की दया-दृष्टि भी रही, जो यहीं आकर बैठा करता था।”
“काश ! मुझे भी कोई ऐसा भलामानुष मिल जाए।” नन्हा पौधा आसमान की ओर देखते हुए बोला।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायगढ़, छत्तीसगढ़

293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
Ranjeet kumar patre
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भविष्य..
भविष्य..
Dr. Mulla Adam Ali
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Ready for argument
Ready for argument
AJAY AMITABH SUMAN
हम भी अगर बच्चे होते
हम भी अगर बच्चे होते
नूरफातिमा खातून नूरी
वो पुराने सुहाने दिन....
वो पुराने सुहाने दिन....
Santosh Soni
समय ⏳🕛⏱️
समय ⏳🕛⏱️
डॉ० रोहित कौशिक
प्यार का बँटवारा
प्यार का बँटवारा
Rajni kapoor
रहो कृष्ण की ओट
रहो कृष्ण की ओट
Satish Srijan
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
23/88.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/88.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फितरत
फितरत
Sukoon
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐Prodigy Love-11💐
💐Prodigy Love-11💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
*Author प्रणय प्रभात*
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
Sidhartha Mishra
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
Loading...