Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

*पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)*

पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)

पैसे-वालों में दिखा , महा घमंडी रोग
दानवीर यदि हो गए , समझो दूना योग
समझो दूना योग ,देवता खुद को कहते
जैसे हों भगवान ,इस तरह दिनभर रहते
कहते रवि कविराय ,गिनो मन के कालों में
ओढ़ा नम्र स्वभाव , मिला पैसे – वालों में
■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 9997615451

268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
📚पुस्तक📚
📚पुस्तक📚
Dr. Vaishali Verma
निराला का मुक्त छंद
निराला का मुक्त छंद
Shweta Soni
"काफ़ी अकेला हूं" से "अकेले ही काफ़ी हूं" तक का सफ़र
ओसमणी साहू 'ओश'
अपनी क़िस्मत को हम
अपनी क़िस्मत को हम
Dr fauzia Naseem shad
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
Time
Time
Aisha Mohan
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
Desert fellow Rakesh
2894.*पूर्णिका*
2894.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
हवा तो थी इधर नहीं आई,
हवा तो थी इधर नहीं आई,
Manoj Mahato
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
ऐसे तो दूर नहीं होगी यह मुश्किल
ऐसे तो दूर नहीं होगी यह मुश्किल
gurudeenverma198
बेटियां अमृत की बूंद..........
बेटियां अमृत की बूंद..........
SATPAL CHAUHAN
The only difference between dreams and reality is perfection
The only difference between dreams and reality is perfection
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
Shakil Alam
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
"ज्वाला
भरत कुमार सोलंकी
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
माँ
माँ
The_dk_poetry
*** रेत समंदर के....!!! ***
*** रेत समंदर के....!!! ***
VEDANTA PATEL
कर रही हूँ इंतज़ार
कर रही हूँ इंतज़ार
Rashmi Ranjan
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
जाने कितने चढ़ गए, फाँसी माँ के लाल ।
sushil sarna
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
ज़रा मुस्क़ुरा दो
ज़रा मुस्क़ुरा दो
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...