Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2022 · 1 min read

पैसे की अहमियत

जिंदगी में पैसे की अहमियत तब पता चलती है
जब ना जेब में पैसा होता है ना बैंक बैलेंस होता है
छोटी-छोटी खुशियों के लिए दिन-रात सोचना पड़ता है पैसे के बिना तो खुशियाँ भी उधार नही मिलती है
जरूरत और खुशी में जरूरत को चुनना पड़ता है
पैसे की अहमियत जिंदगी में तब पता चलती है
जब खुशियों पर पैसे का डंडा चलता है
खुशियों और जरूरतों के लिए इंसान
दिन रात मेहनत करता है
तीज त्योहारों पर पैसा भारी पड़ता है
इस भीड़ भरी दुनिया में पैसा जरूरी होता है
पैसे के बिना जरूरतें कहां पूरी होती है
पैसा हो तो जरूरतें कम लगती है
जिनके पास नहीं है पैसा उनकी जरूरतें भी अधूरी लगती है जिनके पास है पैसा उनकी तो खवाहिश भी पूरी लगती है
पैसे की अहमियत का जिंदगी में पता चलता है

सोनल चौधरी
कानपुर

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 521 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
पूर्वार्थ
कविताश्री
कविताश्री
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
Surinder blackpen
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाय.
हाय.
Vishal babu (vishu)
संबंधों के पुल के नीचे जब,
संबंधों के पुल के नीचे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विषधर
विषधर
Rajesh
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
पहले प्रेम में चिट्ठी पत्री होती थी
Shweta Soni
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
ज़िंदगी ने कहां
ज़िंदगी ने कहां
Dr fauzia Naseem shad
💐अज्ञात के प्रति-61💐
💐अज्ञात के प्रति-61💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
वेलेंटाइन डे बिना विवाह के सुहागरात के समान है।
Rj Anand Prajapati
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
*चलती का नाम गाड़ी* 【 _कुंडलिया_ 】
*चलती का नाम गाड़ी* 【 _कुंडलिया_ 】
Ravi Prakash
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"मेला"
Dr. Kishan tandon kranti
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कातिल अदा
कातिल अदा
Bodhisatva kastooriya
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
In wadiyo me yuhi milte rahenge ,
In wadiyo me yuhi milte rahenge ,
Sakshi Tripathi
■ आज की बात....!
■ आज की बात....!
*Author प्रणय प्रभात*
मंगल दीप जलाओ रे
मंगल दीप जलाओ रे
नेताम आर सी
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
Dhirendra Singh
2591.पूर्णिका
2591.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...