Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 2 min read

*पेड़ के बूढ़े पत्ते (कहानी)*

पेड़ के बूढ़े पत्ते (कहानी)
———————————————————-
लॉकडाउन हट चुका है । दुकानें और बाजार पहले की तरह खुलने शुरू हो गए हैं। सड़कों पर चहल-पहल में भी अब कोई कमी देखने को नहीं मिलती । मुंह पर मास्क तो जरूर है ,लेकिन चिंता की बात अब किसी के चेहरे पर नजर नहीं आती है । रिश्तेदारियों में भी पहले की तरह आना-जाना शुरू हो चुका है ।
विमला देवी को यह सब देख कर अच्छा तो लग रहा है लेकिन यदा-कदा उनकी आँख से दो आँसू ढुलक ही पड़ते हैं। बहू निहारिका चुपके-चुपके उनकी हर गतिविधि पर नजर रखती है । सास को कोई तकलीफ न हो ,इसका पूरा ध्यान निहारिका को रहता है ।
आज भी कुछ ऐसा ही हुआ। विमला देवी अपने कमरे की बालकनी पर बैठे-बैठे सामने मैदान की ओर टकटकी लगाए देख रही थीं। बड़ा-सा पेड़ मैदान के बीचो-बीच न जाने कब से अविचल खड़ा हुआ है । पत्ते गिरते हैं ,पतझड़ छा जाता है और उसके बाद फिर नए पत्ते आ जाते हैं । पचास साल से ससुराल में प्रकृति का यह चक्र इसी बालकनी में बैठकर उन्हें देखने को मिला। कभी इस पतझड़ और वसंत ने उन्हें दुखी नहीं किया । हमेशा जीवन को उत्साह और उमंग के साथ आगे बढ़ने की प्रेरणा ही दी है। लेकिन अब न जाने क्यों उन्हें इस पेड़ में दुख की घनी यादें नजर आने लगी हैं।
निहारिका ने विमला देवी के कंधे पर हाथ रखा और पूछा ” माँजी ! आप रोजाना इस बालकनी में आकर पहले तो कितनी खुश रहती थीं, और अब थोड़ी देर बाद ही चेहरे पर विषाद की रेखाएं खिंच जाती हैं ? क्यो ? अब इस पेड़ में आप कौन सा दुख देखती हैं ? ”
“मैं इस पेड़ को देखती हूं , जिसने अपना बहुत कुछ खोया है।”
” पेड़ ने तो कुछ भी नहीं खोया ! पहले से ज्यादा हरा-भरा है ।”
“मैं नए पत्तों की बात नहीं कर रही । मैं उन बूढ़े पत्तों की याद कर रही हूं ,जो पेड़ से बिछड़े और फिर दोबारा इस पेड़ पर कभी नहीं दिखे ।”
निहारिका ने सास के दुख को समझ लिया । सांत्वना देते हुए कहा “जीवन और मृत्यु तो संसार का नियम है । पिताजी की मृत्यु का दुख तो हम सभी को है । ईश्वर का यही विधान था । इसके सिवाय संतोष करने का और कोई उपाय भी तो नहीं है ? ”
” मुझे मृत्यु का दुख नहीं है । वह तो एक दिन आनी ही थी । दुख तो इस बात का है कि एक आँधी आई और उसने उन पत्तों को भी गिरा दिया ,जो अभी काफी समय तक पेड़ के साथ जुड़े रहते ! “-विमला देवी की आंखों में अपने स्वर्गवासी पति का चेहरा उभर आया था ,जिन्हें महामारी ने असमय ही उनसे अलग कर दिया था। शायद अभी कई साल जीवित रहते !
——————————————
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
रोहित एवं सौम्या के विवाह पर सेहरा (विवाह गीत)
रोहित एवं सौम्या के विवाह पर सेहरा (विवाह गीत)
Ravi Prakash
घर के किसी कोने में
घर के किसी कोने में
आकांक्षा राय
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
* हो जाओ तैयार *
* हो जाओ तैयार *
surenderpal vaidya
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कीमत बढ़ानी है
कीमत बढ़ानी है
Roopali Sharma
प्रबुद्ध लोग -
प्रबुद्ध लोग -
Raju Gajbhiye
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
दोहा - शीत
दोहा - शीत
sushil sarna
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
Neelam Sharma
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
अंबेडकर और भगतसिंह
अंबेडकर और भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
Shweta Soni
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
छोटी-छोटी खुशियों से
छोटी-छोटी खुशियों से
Harminder Kaur
नानी की कहानी होती,
नानी की कहानी होती,
Satish Srijan
"जागरण"
Dr. Kishan tandon kranti
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
Charu Mitra
There's nothing wrong with giving up on trying to find the a
There's nothing wrong with giving up on trying to find the a
पूर्वार्थ
Loading...