Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2023 · 1 min read

पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।

पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
कोलाहल में दब गया,दिव्य सृष्टि का मौन।।
जीव जगत बेबस हुआ,नियम हो गए गौन।
कुदरत अश्कों में ढली, मौज विचारे कौन!!
“मौज”

2 Likes · 401 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"प्यार का सफ़र" (सवैया छंद काव्य)
Pushpraj Anant
Hajipur
Hajipur
Hajipur
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
*शुभ विवाह की वर्षगॉंठ, बच्चों ने खूब मनाई (गीत)*
Ravi Prakash
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
Life
Life
Neelam Sharma
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
जागेगा अवाम
जागेगा अवाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मोहब्बत
मोहब्बत
Dinesh Kumar Gangwar
कितना आसान है मां कहलाना,
कितना आसान है मां कहलाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
2881.*पूर्णिका*
2881.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सफर जब रूहाना होता है
सफर जब रूहाना होता है
Seema gupta,Alwar
ग़ज़ल _ तुम फ़ासले बढ़ाकर किसको दिखा रहे हो ।
ग़ज़ल _ तुम फ़ासले बढ़ाकर किसको दिखा रहे हो ।
Neelofar Khan
श्याम भजन -छमाछम यूँ ही हालूँगी
श्याम भजन -छमाछम यूँ ही हालूँगी
अरविंद भारद्वाज
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
बढ़ने वाला हर पत्ता आपको बताएगा
बढ़ने वाला हर पत्ता आपको बताएगा
शेखर सिंह
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
हिंदी दोहे - हर्ष
हिंदी दोहे - हर्ष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
सुबह-सुबह की लालिमा
सुबह-सुबह की लालिमा
Neeraj Agarwal
मेरे एहसास
मेरे एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Loading...