Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

*पेंशन : आठ दोहे*

पेंशन : आठ दोहे
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
पेंशन सबको चाहिए ,सबका यह अधिकार
जब बूढ़ा तन हो गया ,हो जाता बेकार
(2)
सरकारी क्या आम-जन ,सब की पेंशन चाह
नियम बनाओ इस तरह ,खोलो सब की राह
(3)
जीरा मुँह में ऊँट के ,तुच्छ राशि निरुपाय
अच्छी पेंशन दीजिए ,अच्छी जिससे आय
(4)
बंद बुढ़ापे में हुए , दफ्तर और दुकान
अपनी पेंशन हाथ में ,चलते सीना तान
(5)
बेटे-बहुएँ रख रहे ,आवभगत के साथ
देखो-परखो हर तरफ ,पेंशन जिनके हाथ
(6)
पेंशन कभी न बेचिए ,रखिए मोटी आय
दम देगी दमदार ही ,जब होंगे कृश-काय
(7)
व्यापारी खेता रहा ,जीवन-भर परिवार
सोचो पेंशन के बिना ,क्या उसका आधार
(8)
सुखमय यौवन बालपन ,वृद्धावस्था कष्ट
पतन देह-धन का हुआ ,पूॅंजी सारी नष्ट
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
ऊँट के मुँह में जीरा = एक कहावत ,बहुत मामूली धन अथवा वस्तुएँ
निरुपाय = कुछ कर सकने में असमर्थ
आवभगत = खातिरदारी
दमदार = शक्तिशाली
खेता = नाव खेने के संदर्भ में ,पालन-पोषण
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
1 Like · 334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
फितरत सियासत की
फितरत सियासत की
लक्ष्मी सिंह
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
कवि रमेशराज
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ड्यूटी
ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
काव्य भावना
काव्य भावना
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
अब मत करो ये Pyar और respect की बातें,
Vishal babu (vishu)
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
कई बार हम ऐसे रिश्ते में जुड़ जाते है की,
पूर्वार्थ
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
#लिख_के_रख_लो।
#लिख_के_रख_लो।
*Author प्रणय प्रभात*
"" *अक्षय तृतीया* ""
सुनीलानंद महंत
आईना सच कहां
आईना सच कहां
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी
ज़िंदगी
नन्दलाल सुथार "राही"
प्रेम छिपाये ना छिपे
प्रेम छिपाये ना छिपे
शेखर सिंह
3107.*पूर्णिका*
3107.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
Maier Rajesh Kumar Yadav
" खामोशी "
Aarti sirsat
"एकान्त चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...