Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

*पृथ्वी दिवस*

धरा ने कहा
मेरे गर्भ को पहचानो
मत काटो मेरे भ्रूण को
मुझे थोड़ा तो जानो
मेरे पेट मे पड़ी
जड़ों को पहचानो
मत खड़ी करो इतनी इमारतें
केवल रहने का साधन बनाओगे
तो ऑक्सीजन कहां से लाओगे
क्या प्राणवायु बिना
तुम जिंदा रह पाओगे
प्लास्टिक के कूड़े के ढेर
मेरे पेट में ना भर आओ
पौष्टिक नहीं खिलाओगे तो
मेरे भ्रूण की हत्या का
हत्यारे कहलाओगे
मुझे प्यार से सहलाओ
मेरे भ्रूण में पड़े पेड़ों को
सीचंकर तुम बढ़ाओगे
रोक दो उस जहरीले धुएं को
जो शांत प्रकृति को जलाती है
ओजोन लेयर को भी हटाती है
मेरे निकट आओ
एक ठंडी सी छांव पाओ
प्रकृति से जुड़ जाओ
आज पृथ्वी दिवस मनाओ
प्रण कर आओ
एक नई पौध लगाओ
मेरी रोती हुई पृथ्वी को
पृथ्वी दिवस पर ही हंसाओ
मौलिक एवं स्वरचित
‌। मधु शाह(२२-४-२३)

1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"इन्तजार"
Dr. Kishan tandon kranti
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
gurudeenverma198
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
Bhupendra Rawat
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
Rj Anand Prajapati
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
Lokesh Sharma
अफ़सोस का बीज
अफ़सोस का बीज
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
“See, growth isn’t this comfortable, miraculous thing. It ca
पूर्वार्थ
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
प्रेम
प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#सामयिक ग़ज़ल
#सामयिक ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...