Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

पूस की इस चांदनी रात

पूस की इस चांदनी रात
तुम चलोगी
कुछ दूर साथ?
जवानी के जिस रस्ते पर
मै चल रहा था
वो मुझे सपने में ले जा रहा था
मेरे पास साहस नहीं था
ये सवाल तुमसे पूछने का
तुम चलोगी
कुछ दूर साथ?

तुमने मुझे देखा,
मैंने तुम्हे देखा
मेरे चेहरे पर डर था
तुमसे दुबारा न मिल सकने का
मै तुम्हारे नाक पर
बने उस तिल को देखता रहा
गहरा और विराट
तुम्हारे मखमली
सफ़ेद सूट को देखता रहा
पूस की इस चांदनी रात
पर पूछ न सका
तुम चलोगी
कुछ दूर साथ?
मै भी नहीं बोला तुमसे
हम शायद हैरान थे
पूस की इस चांदनी रात
क्योंकि,चल पड़े थे
कुछ दूर साथ..
रात बहुत हो चुकी थी
ज़िन्दगी को जी रहे थे
तुम्हे मुझसे प्यार हो गया
बस इस रात
तो मान लो मेरी बात
चलते रहो साथ-साथ
कुछ दूर साथ
मै देखता रहूँ
तुम्हारे नाक के कोमल काले तिल को
और चलता रहूँ
तुम्हारे साथ…
दिन,सप्ताह,
माह,साल,
हज़ार साल…
कुछ दूर साथ…..

सुनील पुष्करणा

Language: Hindi
499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी दिवस की बधाई
हिंदी दिवस की बधाई
Rajni kapoor
वो तीर ए नजर दिल को लगी
वो तीर ए नजर दिल को लगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
Kishore Nigam
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
रंगरेज कहां है
रंगरेज कहां है
Shiva Awasthi
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ बातें ज़रूरी हैं
कुछ बातें ज़रूरी हैं
Mamta Singh Devaa
"महसूस"
Dr. Kishan tandon kranti
यदि हर कोई आपसे खुश है,
यदि हर कोई आपसे खुश है,
नेताम आर सी
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
Rj Anand Prajapati
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
अयोध्या धाम
अयोध्या धाम
Mukesh Kumar Sonkar
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
* बच कर रहना पुष्प-हार, अभिनंदन वाले ख्यालों से 【हिंदी गजल/ग
* बच कर रहना पुष्प-हार, अभिनंदन वाले ख्यालों से 【हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
मुझे बेपनाह मुहब्बत है
मुझे बेपनाह मुहब्बत है
*Author प्रणय प्रभात*
करके याद तुझे बना रहा  हूँ  अपने मिजाज  को.....
करके याद तुझे बना रहा हूँ अपने मिजाज को.....
Rakesh Singh
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
Dr. Man Mohan Krishna
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
"चालाक आदमी की दास्तान"
Pushpraj Anant
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
Loading...