Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

*पूर्णिका*

पूर्णिका
🌷 संयोग की बात होती है🌷
2212 212 22
संयोग की बात होती है ।
दिन बाद ही रात होती है ।।
अरमान रखते जहाँ देखो।
अहसास सौगात होती है ।।
कर नेकिया दे खुशी दिल से।
सच रोज बरसात होती है ।।
पतवार कह देख पार कश्ती।
वरदान हालात होती है ।।
खुशियां रखे साथ जब खेदू।
फितरत करामात होती है ।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
19-03-2024मंगलवार

69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कलियुग है
कलियुग है
Sanjay ' शून्य'
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
हो....ली
हो....ली
Preeti Sharma Aseem
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Anand mantra
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
कहाॅ॑ है नूर
कहाॅ॑ है नूर
VINOD CHAUHAN
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
* प्यार का जश्न *
* प्यार का जश्न *
surenderpal vaidya
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
कवि दीपक बवेजा
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
डी. के. निवातिया
2789. *पूर्णिका*
2789. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बहता पानी
बहता पानी
साहिल
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
आहाँ अपन किछु कहैत रहू ,आहाँ अपन किछु लिखइत रहू !
DrLakshman Jha Parimal
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
पूर्वार्थ
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अध्याय 5*
*अध्याय 5*
Ravi Prakash
Where is love?
Where is love?
Otteri Selvakumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नादान प्रेम
नादान प्रेम
अनिल "आदर्श"
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
देखें हम भी उस सूरत को
देखें हम भी उस सूरत को
gurudeenverma198
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
*प्रणय प्रभात*
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...