Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

पूजा

पूजा वीणा दायिनी , नमन करे संसार ।
उर नवल ज्ञान दायिनी , बुद्धि देती अपार ।।
बुद्धि देती अपार ,जग माता पद्मासना ।
शारदे हंस वाहिनी , वर दे हमें सुभाषना ।।
कहत ओम कविराय , तुम सम जग में न दूजा ।
ज्ञानी बनें करके , वीणा दायिनी पूजा ।।

ओमप्रकाश भारती ओम्
बालाघाट , मध्य प्रदेश

Language: Hindi
66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंडियन विपक्ष
इंडियन विपक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
बालगीत - सर्दी आई
बालगीत - सर्दी आई
Kanchan Khanna
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
कभी हमको भी याद कर लिया करो
कभी हमको भी याद कर लिया करो
gurudeenverma198
निगाहें के खेल में
निगाहें के खेल में
Surinder blackpen
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Shekhar Chandra Mitra
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
shabina. Naaz
वो हमें भी तो
वो हमें भी तो
Dr fauzia Naseem shad
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
ज्ञानों का महा संगम
ज्ञानों का महा संगम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
Phool gufran
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
किसान
किसान
Dp Gangwar
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
3257.*पूर्णिका*
3257.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी
Dr MusafiR BaithA
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
राम नाम की जय हो
राम नाम की जय हो
Paras Nath Jha
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
*कहाँ गईं वह हँसी-मजाकें,आपस में डरते हैं (हिंदी गजल/गीतिका
*कहाँ गईं वह हँसी-मजाकें,आपस में डरते हैं (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
Loading...