Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

पुस्तक

पुस्तक में है ज्ञान समंदर|
बंद करो मस्तक के अंदर|

मात शारदे इसमें रहती|
वेदों की ये गाथा कहती|
पुस्तक को रखो सम्भाल कर|
रोज़ पढ़ो गठ्ठर निकालकर|
सीखो सही गलत का अंतर|
पुस्तक में है ज्ञान समंदर|

दुनिया का हर राज़ समाया|
है भरी विज्ञान की माया|
इस जग का इतिहास लिखा है|
हास तथा परिहास लिखा है|
लिखा हुआ है जादू-मंतर|
पुस्तक में है ज्ञान समंदर|

कहानियाँ सब मुझको भाए|
अच्छी-अच्छी बात सिखाए|
पुस्तक को तुम मित्र बनाओं|
श्रेष्ठ गुणों को तुम अपनाओ।
पढ़-लिखकर तुम बनो सिकंदर|
पुस्तक में है ज्ञान समंदर|
मेरे द्वारा लिखी गई है
-वेधा सिंह
-७वीं

Language: Hindi
Tag: गीत
92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Vedha Singh
View all
You may also like:
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
गीत - मेरी सांसों में समा जा मेरे सपनों की ताबीर बनकर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
"बात पते की"
Dr. Kishan tandon kranti
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
Ravi Betulwala
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
दिवाली व होली में वार्तालाप
दिवाली व होली में वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
Monday Morning!
Monday Morning!
R. H. SRIDEVI
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
गुमनाम 'बाबा'
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
Ravi Prakash
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
Ritu Asooja
ज़िंदगी इसमें
ज़िंदगी इसमें
Dr fauzia Naseem shad
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो कभी रहते थे दिल के ख्याबानो में
जो कभी रहते थे दिल के ख्याबानो में
shabina. Naaz
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
*सर्दी की धूप*
*सर्दी की धूप*
Dr. Priya Gupta
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"Know Your Worth"
पूर्वार्थ
Loading...