Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

पुष्प

***पुष्प***
मेरा खिलता यौवन देख
सारा जग खिल जाए
मेरी खुश्बू जो ले
वह मेरे ही गुण गाये
देख मुझे काँटों में
हर कोई मुस्कराकर मझको
अपने हाथों में लेना चाहे
अपनी प्रेसी के जैसे
हर कोई मुझको चाहे
मै वो ही हूँ जो
दो दिलो को मिलाये
पिया प्रेम पाने को
हर सुहागन मुझको तो
अपनी सेज़ पर सजाये
जग छोड जब इसां
बिधाता के घर जाये
तव मुझको वह अपनी
अर्थी पर भी सजवाये
ठीक उसी तरह से
जब दुल्हन पिया घर आये
मेरा खिलता———–
***दिनेश कुमार गंगवार ***

Language: Hindi
2 Likes · 24 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
व्यक्ति महिला को सब कुछ देने को तैयार है
व्यक्ति महिला को सब कुछ देने को तैयार है
शेखर सिंह
" तुम खुशियाँ खरीद लेना "
Aarti sirsat
खुद को पागल मान रहा हु
खुद को पागल मान रहा हु
भरत कुमार सोलंकी
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
पिता
पिता
Raju Gajbhiye
नर को न कभी कार्य बिना
नर को न कभी कार्य बिना
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
कर्जमाफी
कर्जमाफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*राधा-कृष्ण मंदिर, किला कैंप, रामपुर: जिसकी प्राचीन मूर्तियॉ
*राधा-कृष्ण मंदिर, किला कैंप, रामपुर: जिसकी प्राचीन मूर्तियॉ
Ravi Prakash
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
The most awkward situation arises when you lie between such
The most awkward situation arises when you lie between such
Sukoon
बुद्धिमान हर बात पर,
बुद्धिमान हर बात पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"जीवन का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
52.....रज्ज़ मुसम्मन मतवी मख़बोन
52.....रज्ज़ मुसम्मन मतवी मख़बोन
sushil yadav
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत" - भाग- 01 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
तन, मन, धन
तन, मन, धन
Sonam Puneet Dubey
नेता पक रहा है
नेता पक रहा है
Sanjay ' शून्य'
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
दुखों का भार
दुखों का भार
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
छोटी छोटी चीजें देख कर
छोटी छोटी चीजें देख कर
Dheerja Sharma
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
Loading...