Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 2 min read

*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*

पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं

रमेश कुमार जैन प्रकृति के उपासक हैं। पेड़-पौधे और फूलों से प्रेम करते हैं। दार्शनिक अंदाज में आपने बहुत सी कविताएं इनको ही आधार बनाकर लिखी हैं।
11 जून 2023 को आपने अपनी दो कविताएं प्रकाशित की हैं। एक पीपल के पेड़ के बारे में है, दूसरी सदाबहार के फूलों के आधार पर है। प्रकाशित होने से पहले ही मुझे आपके माध्यम से इन कविताओं को पढ़ने का सौभाग्य मिला है। विशेष बात यह है जहां एक ओर पीपल के पेड़ से संबंधित कविता में “पीपल की छांव में हृदय को शुद्ध करती शीतल वायु” पर जोर दिया गया है वहीं दूसरी ओर सदाबहार के फूलों के संबंध में तो रमेश कुमार जैन साहब की अनुभूति गजब की है।
जब मेरे पास आए तो कहने लगे कि “सदाबहार के सफेद फूल जो आकार में बैगनी रंग के फूलों से कुछ बड़े होते हैं, उनसे मैंने बातें की हैं। मैं जब कुछ कहता हूं तो वह सुनते हैं, मुस्कुराते हैं। इस तरह हमारी बातचीत चलती रहती है।”
अगर यह बात कोई साधारण व्यक्ति कहता तो मैं इसे नजरअंदाज कर देता । लेकिन रमेश कुमार जैन वह फकीर हैं जो अध्यात्म की दौलत से मालामाल हैं। मैंने उन्हें उनकी अनुभूतियों पर शुभकामनाएं दीं और कहा कि प्रकृति के बीच में रहकर प्राप्त होने वाले अनुभव दिव्य होते हैं तथा उनसे दिव्यता का ही प्रभामंडल विस्तार पाता है। इसलिए जो कुछ आपको अनुभव हो रहा है, उसका परिणाम अच्छा ही होगा।
जहां बैगनी रंग के सदाबहार फूलों को देखकर कवि ने लिखा है कि यह छोटे हृदय वाले/ उदासीन/ प्रफुल्लता से दूर रहने वाले/ सदाबहार तो होते हैं/ पर उल्लास से दूर दिखते हैं।”
यह कवि का निजी अनुभव है, जिसको पूरा सम्मान मिलना चाहिए । सफेद रंग के सदाबहार के बड़ी पंखुड़ियों वाले फूलों के संबंध में कविता की पंक्तियां देखिए ! कवि लिखते हैं :-
तुम मौन अवश्य हो/ पर मेरी आत्मा में निवास करते हो/ मुस्कुराते हो/ बतियाते हो/ सामान्य से बड़ी पंखुड़ी/ सोच भी बड़ी कर देती है
फूलों और पौधों पर कविताएं तो बहुत से लोग लिखते रहते हैं लेकिन अपनी आत्मा को फूलों का स्पर्श कराकर कविता लिखने वाले रमेश कुमार जैन तो अपना अलग ही व्यक्तित्व रखते हैं। आपने फूलों का वनस्पति शास्त्र में जो वैज्ञानिक नाम दिया गया है, वह भी कविता के शीर्ष पर अंकित कर दिया है। निजी दिव्य अनुभूतियों को कविता का विषय बना कर सार्वजनिक करने के लिए बहुत-बहुत बधाई रमेश कुमार जैन साहब
➖➖➖➖➖➖
समीक्षक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
💐प्रेम कौतुक-517💐
💐प्रेम कौतुक-517💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर तरफ खामोशी क्यों है
हर तरफ खामोशी क्यों है
VINOD CHAUHAN
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
Taj Mohammad
पिछले पन्ने भाग 1
पिछले पन्ने भाग 1
Paras Nath Jha
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Hasta hai Chehra, Dil Rota bahut h
Kumar lalit
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
Dr fauzia Naseem shad
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
चिलचिलाती धूप में निकल कर आ गए
कवि दीपक बवेजा
पढ़ता  भारतवर्ष  है, गीता,  वेद,  पुराण
पढ़ता भारतवर्ष है, गीता, वेद, पुराण
Anil Mishra Prahari
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
"कथा" - व्यथा की लिखना - मुश्किल है
Atul "Krishn"
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/11.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
प्यार के लिए संघर्ष
प्यार के लिए संघर्ष
Shekhar Chandra Mitra
I know people around me a very much jealous to me but I am h
I know people around me a very much jealous to me but I am h
Ankita Patel
दाना
दाना
Satish Srijan
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...