Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 18, 2016 · 1 min read

पुलिस आ रही है

यूं तो छमिया रोज़ ही हाट से सब्जी बेचकर दिन ढले ही घर आती थी, पर आज तनिक देर हो गयी थी. वह थोड़ी देर के लिए अपनी मौसी से मिलने चली गयी थी. युग -ज़माना का हवाला देकर मौसी ने उसे यहीं रुक जाने को कहा था, पर बूढ़ी माँ को वह अकेले छोड़ भी कैसे सकती थी? जब वह मौसी के घर से चली थी तो सूरज अपनी अलसाई आँखें मुंदने लगा था. छमिया तेज-तेज डग भरने लगी , पर शायद रात को आज कुछ ज्यादा ही जल्दी थी. देखते ही देखते चारो ओर कालिमा पसर गयी. वह पगडण्डी पार कर रही थी. अचानक उसे बगल की झाड़ियों में खड़-खड़ की आवाज़ सुनाई पड़ी. एक आदमी उसका पीछा करने लगा. छमिया लगभग दौड़ने लगी. थोड़ी देर पीछा करने के बाद वह आदमी पीछे लौट गया. छमिया अभी भी दौड़ रही थी, अचानक उसे सामने से आती हुई पुलिस की जीप दिखी.यह क्या, छमिया उल्टी दिशा में भागने लगी—- जिस आदमी से वह डरकर भाग रही थी, उसीका बांह पकड़ कर बोली -“बचाई लो भईया!पुलिस आ रही है.”
— सतीश मापतपुरी

6 Comments · 238 Views
You may also like:
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
मन
शेख़ जाफ़र खान
नाम
Ranjit Jha
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H. Amin
*सोमनाथ मंदिर 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी की आरजू में।
Taj Mohammad
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
बंजारों का।
Taj Mohammad
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वसंत का संदेश
Anamika Singh
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️अलहदा✍️
"अशांत" शेखर
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
मेरी नेकियां।
Taj Mohammad
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
पंचशील गीत
Buddha Prakash
जीवन
vikash Kumar Nidan
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
Loading...