Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

पुलिस आ रही है

यूं तो छमिया रोज़ ही हाट से सब्जी बेचकर दिन ढले ही घर आती थी, पर आज तनिक देर हो गयी थी. वह थोड़ी देर के लिए अपनी मौसी से मिलने चली गयी थी. युग -ज़माना का हवाला देकर मौसी ने उसे यहीं रुक जाने को कहा था, पर बूढ़ी माँ को वह अकेले छोड़ भी कैसे सकती थी? जब वह मौसी के घर से चली थी तो सूरज अपनी अलसाई आँखें मुंदने लगा था. छमिया तेज-तेज डग भरने लगी , पर शायद रात को आज कुछ ज्यादा ही जल्दी थी. देखते ही देखते चारो ओर कालिमा पसर गयी. वह पगडण्डी पार कर रही थी. अचानक उसे बगल की झाड़ियों में खड़-खड़ की आवाज़ सुनाई पड़ी. एक आदमी उसका पीछा करने लगा. छमिया लगभग दौड़ने लगी. थोड़ी देर पीछा करने के बाद वह आदमी पीछे लौट गया. छमिया अभी भी दौड़ रही थी, अचानक उसे सामने से आती हुई पुलिस की जीप दिखी.यह क्या, छमिया उल्टी दिशा में भागने लगी—- जिस आदमी से वह डरकर भाग रही थी, उसीका बांह पकड़ कर बोली -“बचाई लो भईया!पुलिस आ रही है.”
— सतीश मापतपुरी

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
6 Comments · 295 Views
You may also like:
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'जिंदगी'
Godambari Negi
ज़िंदगी के हिस्से में
Dr fauzia Naseem shad
✍️बूढ़ा शज़र लगता है✍️
'अशांत' शेखर
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
अदना
Shyam Sundar Subramanian
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
*पत्नी: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
पड़ जाओ तुम इश्क में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां
हरीश सुवासिया
शारीरिक भाषा (बाॅडी लेंग्वेज)
पूनम झा 'प्रथमा'
किताब
Seema 'Tu hai na'
कविता - नई परिभाषा
Mahendra Narayan
"वृद्धाश्रम" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जिंदगी यूं ही गुजार दूं।
Taj Mohammad
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
भारत का महान सम्राट अकबर नही महाराणा प्रताप थे
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
साथ समय के चलना सीखो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
हौसला क़ायम रहे
Shekhar Chandra Mitra
" राज "
Dr Meenu Poonia
मुझे धोखेबाज न बनाना।
Anamika Singh
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...