Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*

पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)
_________________________
1)
पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे
एक दिवस आएगा खाली, भीतर से हो जाओगे
2)
मिले बाप-दादा से धन की, समझ न पाओगे कीमत
दॉंतों से पकड़ोगे तब ही, जब तुम स्वयं कमाओगे
3)
दुनिया क्या कहती है इस पर, ज्यादा चिंता मत करना
दुनिया कमी निकालेगी ही, जो भी कदम उठाओगे
4)
खर्च अनावश्यक कम कर लो, भरो सादगी जीवन में
शांति और सुख सच्चा तब ही, भीतर तक पहुॅंचाओगे
5)
नकली चमक-दमक से शायद, भरमा लोगे दुनिया को
लेकिन सच्ची शांति हृदय में, बोलो कैसे लाओगे
6)
जग के सारे रिश्ते झूठे, बनते और बिगड़ते हैं
केवल मॉं की लोरी में ही, सच्ची ममता पाओगे
7)
अपना सब कुछ छोड़-छाड़ जो, बेटों को दे जाता है
मूल्य पिता का अगर न समझे, जीवन-भर पछताओगे
8)
सात जन्म का रिश्ता है यह, दो दिन की संविदा नहीं
पाणि-ग्रहण का मतलब है यह, सातों जन्म निभाओगे
9)
नए कर्ज से माना तुमने, किया पुराना ऋण चुकता
लेकिन प्रश्न यही है ऐसा, कब तक चक्र चलाओगे
10)
ओ! कॅंदले के आभूषण तुम, सोने-से दिखते तो हो
हुई जॉंच जिस दिन लज्जा से, सिर फिर कहॉं छुपाओगे
————————————
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आरती करुँ विनायक की
आरती करुँ विनायक की
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
Ravi Prakash
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
*उधो मन न भये दस बीस*
*उधो मन न भये दस बीस*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
Bhupendra Rawat
मेरे जीवन में सबसे
मेरे जीवन में सबसे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुनील गावस्कर
सुनील गावस्कर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
“पतंग की डोर”
“पतंग की डोर”
DrLakshman Jha Parimal
सांसों के सितार पर
सांसों के सितार पर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
मुझे तारे पसंद हैं
मुझे तारे पसंद हैं
ruby kumari
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
समय
समय
Dr.Priya Soni Khare
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं
लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं
Rituraj shivem verma
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
ज़िंदगी को जीना है तो याद रख,
Vandna Thakur
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...