Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2024 · 1 min read

पुनर्जागरण काल

ये पावन पुनीत अमृत वेला है
जो पी रहा रस हो अलवेला है
हर तरफ एक ही गूंज गूंज रही
जय जय हो बस यही धूम रही
महक रहा अध्यात्म धर्म के संग है
चहक रहा समय करम के रंग है
देखो प्रजा में कैसा उल्लास है
झूम रहा धरती संग आकाश है
ये पुनरुत्थान का समय आया है
भक्ति प्रेम का अलख जगाया है
हे ईश्वर पूर्ण परमेश्वर जागे हर चेतना
हो नाम तुम्हारा भू सकल यही प्रार्थना

Language: Hindi
10 Likes · 81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
10) पूछा फूल से..
10) पूछा फूल से..
पूनम झा 'प्रथमा'
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
मत हवा दो आग को घर तुम्हारा भी जलाएगी
Er. Sanjay Shrivastava
जिंदगी बोझ लगेगी फिर भी उठाएंगे
जिंदगी बोझ लगेगी फिर भी उठाएंगे
पूर्वार्थ
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
💐प्रेम कौतुक-435💐
💐प्रेम कौतुक-435💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
वहां पथ पथिक कुशलता क्या, जिस पथ पर बिखरे शूल न हों।
Slok maurya "umang"
*बेचारी जर्सी 【कुंडलिया】*
*बेचारी जर्सी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सुप्रभात..
सुप्रभात..
आर.एस. 'प्रीतम'
"कवि तो वही"
Dr. Kishan tandon kranti
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
,,
,,
Sonit Parjapati
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loading...