Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 2 min read

पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम

पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह में पढ़े गये दो गीत
______________________________________
(1)
—————————————————————–
परम-पूजनीय नानाजी श्री राधेलाल अग्रवाल सर्राफ ( 18 जून 1908 — 18 जून 2008 )
—————————————————————-
घर के मुखिया पुण्य प्रणाम
—————————————-
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम

जून अठारह सौ बरसों पहले जो शुभ आई थी
तपती हुई दुपहरी में तब शीतलता छाई थी
एक ज्योति को अन्धकार में उगते सबने देखा
खिंची कसौटी पर सुन्दर सोने की हो ज्यों रेखा
मिला आपसे निर्मलता का जग को नव-आयाम
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम

सात्विक जीवन जिया ,सादगी की पहचान बनाई
स्वाभिमान से भरे मान की रक्षा-रीति सिखाई
कभी न बोलो झूठ ,सत्य के पथ पर चलते जाना
रहो दूर छल-कपट भाव से सबको था बतलाना
याद आ रहा जीवन जो था शिव सुन्दर निष्काम
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम

जीवन जिया नेह से भरकर सबको नेह लुटाया
सबको निज समझा कुटम्ब का कोई नहीं पराया
भरी हुई आत्मीय भावना से सुन्दर मति पाई
वही संत है ,नहीं हृदय में जिसके कटुता आई
धन्य आपकी साधु-भावना मंगलमय अविराम
सौ-सौ नमन आपको घर के मुखिया पुण्य प्रणाम
—————————-
दिनांक 18 जून 2008
—————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451
————————————————————
(2)
————————————————————
जन्मशती समारोह
————————————————————
परम पूजनीय नानाजी श्री राधे लाल अग्रवाल सर्राफ (मुरादाबाद)
( 18 जून 1908 – 18 जून 2008 )
—————————————-
जन्म-शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है

कर्मवीर थे व्यापारी थे जिनकी अपनी शान थी
दूर-दूर तक उज्जवल छवि ही की जिनकी पहचान थी
सबसे मीठा सिर्फ बोलना जिनका शुभ्र स्वभाव था
कटुता का छल-कपट भाव का जिनमें रहा अभाव था
रहा सभी से जिनका जीवन भर निर्मल व्यवहार है
जन्म शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है

आज आ रहे याद हमें वह दिन नानी घर जाते
गर्मी में छुट्टी के कुछ दिन हिलमिल जहाँ बिताते
हम बच्चे जो चीज मॉंगते हमको वही दिलाते
चाट-पकौड़ी खट्टा-मीठा भर-भर हमें खिलाते
उनकी ममता और नेह को बार-बार आभार है
जन्म शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है

शहद घुला था बातों में,हॅंसते ही केवल देखा
कभी न त्यौरी चढ़ी रोष की खिंचती कोई रेखा
कभी खिलौने देते भर-भर ,कभी मिठाई लाते
लगता जैसे अलादीन का दिया पास रख जाते
नाना जी का अर्थ स्वयं में कल्पवृक्ष साकार है
जन्म-शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है

याद आ रहे विष्णु-मामा याद आ रहीं नानी
याद आ रही चुन्नी-जीजी की सुधीर की वाणी
याद आ रहे वे दिन जब चिड़ियॉं गाना गाती थीं
नाना जी से सदा प्यार में नानी बढ़ जाती थीं
रोज बिछुड़ने का मिलने का मतलब यह संसार है
जन्म शती पर नाना जी को नमस्कार शत बार है
———————————
दिनांक 18 जून 2008
———————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

472 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
" रिवायत "
Dr. Kishan tandon kranti
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
Sahil Ahmad
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
तुम
तुम
Punam Pande
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
जन्म से मृत्यु तक भारत वर्ष मे संस्कारों का मेला है
Satyaveer vaishnav
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
Ravi Prakash
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
धोखा
धोखा
Sanjay ' शून्य'
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
💐अज्ञात के प्रति-7💐
💐अज्ञात के प्रति-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ लघु-व्यंग्य / खुशखबरी...
■ लघु-व्यंग्य / खुशखबरी...
*Author प्रणय प्रभात*
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2649.पूर्णिका
2649.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
Shyam Sundar Subramanian
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
थोड़ी दुश्वारियां ही भली, या रब मेरे,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
सबका भला कहां करती हैं ये बारिशें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
मोलभाव
मोलभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" जिन्दगी क्या है "
Pushpraj Anant
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बुढापे की लाठी
बुढापे की लाठी
Suryakant Dwivedi
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
.....,
.....,
शेखर सिंह
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
ज्योतिष विज्ञान एव पुनर्जन्म धर्म के परिपेक्ष्य में ज्योतिषीय लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
डर का घर / MUSAFIR BAITHA
डर का घर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हार जाते हैं
हार जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...