Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

पुण्यपताका ले के

क्या कहीं पुष्प खिला पुण्यपताका ले के।
कौन है आज मिला पुण्यपताका ले के।।

आसुरी वृत्ति बढ़ी भोग बढ़ा है जैसे,
गिर गया मित्र! क़िला पुण्यपताका ले के।।

स्वार्थ है लोभ बढ़ा, और बढ़ा मत्सर भी,
प्रेम का भाव छिला पुण्यपताका ले के।।

दीन का एक सहारा न बना है कोई,
खो गयी शुभ्र इला पुण्यपताका ले के।।

‘आशु’ को मोल लिया, तोल लिया कंचन ने,
धर्म का चित्त हिला पुण्यपताका ले के।।
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

429 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
2942.*पूर्णिका*
2942.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
ऐ नौजवानों!
ऐ नौजवानों!
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
Nupur Pathak
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आकाश के नीचे
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-240💐
💐प्रेम कौतुक-240💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
सब समझें पर्व का मर्म
सब समझें पर्व का मर्म
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोहा बिषय- महान
दोहा बिषय- महान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
*अधूरा प्रेम (कुंडलिया)*
*अधूरा प्रेम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
खंड 8
खंड 8
Rambali Mishra
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
मंजिलें
मंजिलें
Mukesh Kumar Sonkar
शाश्वत प्रेम
शाश्वत प्रेम
Bodhisatva kastooriya
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
gurudeenverma198
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
Loading...