Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

पिला रही हो दूध क्यों,

पिला रही हो दूध क्यों,
तुम आज भाग्यवान
नाग पंचमी का दिवस,
इसलिए दुग्धपान
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
सब अपनो में व्यस्त
सब अपनो में व्यस्त
DrLakshman Jha Parimal
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
"निशान"
Dr. Kishan tandon kranti
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
6. *माता-पिता*
6. *माता-पिता*
Dr Shweta sood
कुदरत मुझको रंग दे
कुदरत मुझको रंग दे
Gurdeep Saggu
पुश्तैनी मकान.....
पुश्तैनी मकान.....
Awadhesh Kumar Singh
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
■ आज का विचार।।
■ आज का विचार।।
*प्रणय प्रभात*
।। मतदान करो ।।
।। मतदान करो ।।
Shivkumar barman
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
sudhir kumar
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
गुमनाम 'बाबा'
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
प्रेस कांफ्रेंस
प्रेस कांफ्रेंस
Harish Chandra Pande
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
Shweta Soni
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
Neeraj Agarwal
Loading...