Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2022 · 1 min read

पितृ वंदना

पितृ वंदना

देव का, ही रूप शास्वत, आप ही, हैं स्वर हमारे।
प्रेम का, पर्याय जग में, आप ही, ईश्वर हमारे।

आप से, ही भान हमको, क्या गलत, क्या कुछ सही है।
आप से, बढ़कर जगत में, देवता, कोई नहीं है।
आप बन्धु, आप शिक्षक, सदगुरू, सहचर हमारे।
प्रेम का, पर्याय जग में, आप ही, ईश्वर हमारे।

हे पिता! विश्वास की बस, आप ही, पहिचान सुंदर।
प्रात की, उस आरती का, आप हीं, हो गान सुंदर।
प्राण हैं, यदि हम अधिश्वर, आप ही, हो धर हमारे।
प्रेम का, पर्याय जग में, आप ही, ईश्वर हमारे।

आप बन, पीपल व बरगद, छाँव ही, देते रहे है।
हर बला, निज पुत्र जन की, आप ही, लेते रहे हैं।
हर व्यथा, हर विघ्न में हो, आप विघ्नेश्वर हमारे।
प्रेम का, पर्याय जग में, आप ही, ईश्वर हमारे।

ले मनुज, का रूप आये, आप पालनहार हो जी।
रुग्ण सा, दिखते मगर बस, मृदु सरल, व्यवहार हो जी।
आप से, पल्वित हुआ मै, आप सर्वेश्वर हमारे।
प्रेम का, पर्याय जग में, आप ही, ईश्वर हमारे।

आप का, पूजन करूँ मैं, बस यहीं, वरदान देना।
आप के, हिय में रहूँ मैं, तुच्छ सी, यह दान देना।
स्वर्ग सम, सुंदर व अद्भुत, आप हीं, हो घर हमारे।
प्रेम का, पर्याय जग में, आप ही, ईश्वर हमारे।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण, बिहार

Language: Hindi
Tag: गीत
54 Likes · 93 Comments · 1528 Views
You may also like:
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
इस्लाम का विकृत रूप और हिंदुओं के पतन के कारण...
Pravesh Shinde
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
अपराधी कौन
Manu Vashistha
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
खुशी और गम
himanshu yadav
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
मुक्तक
AJAY PRASAD
“AUTOCRATIC GESTURE OF GROUP ON FACEBOOK”
DrLakshman Jha Parimal
"ईद"
Lohit Tamta
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
संस्कारी नाति (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
"गर्वित नारी"
Dr Meenu Poonia
घर-घर लहराये तिरंगा
Anamika Singh
तेरा आईना हो जाऊं
कवि दीपक बवेजा
राष्ट्रभाषा हिन्दी है हमारी शान
Ram Krishan Rastogi
✍️बुलडोझर✍️
'अशांत' शेखर
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
उड़ान
Shekhar Chandra Mitra
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
नूर ए हुस्न उसका।
Taj Mohammad
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*लखनऊ का नवीनतम नवाबी-महल पिलेसिओ मॉल*
Ravi Prakash
Loading...