Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2023 · 1 min read

पिता

एक सूत्र में बांध सभी को,जो घर में रख पाता है।
सब के मुख पर देख हँसी को,जो खुद कभी मुस्कुराता है।।
अपने बच्चों की हर ख्वाहिश,जो बोलने से पहले पूरी कर पाता है।
एक पिता अपने सभी बच्चों की हर जरूरत पूरी कर पाता है।।
वो पिता ही है जो हर बच्चे की झोली खुशियों से भर पाता है।
रातों जागकर बच्चों की खातिर, जो सुंदर सुंदर स्वप्न सजाता है।।
देख मुसीबत बच्चों पर अपने कमज़ोर पिता भी शेर बन जाता है।
बच्चों तक कोई दुःख ना पहुंचे अकेला जो दस दस से भिड़ जाता है।।
वो पिता ही है जिसका कोई कपड़ा कभी भी पुराना नहीं हो पाता है।
और अपने बच्चों को हर वर्ष जो नये नये ब्रांडेड कपड़े दिलवाता है।।
बच्चों को जो उनकी इच्छानुसार नोकरी या व्यापार करवाता है।
आज भी वो पिता अपनी आदत से मजबूर बच्चों की खातिर पैसे बचाता है।।
खुद पैदल मंडी जाकर जो बच्चों की पसंद की चुन चुन कर वस्तुएं लाता है।
मां के द्वारा बनाए स्वादिष्ट खाने का सारा श्रेय भी जो माता को दिलवाता है।।
वो जो पुत्रवधु की खातिर अपने खुद के बेटे से भी गुस्सा हो जाता है।
बेटियों का बनता आदर्श पिता पर बेटे के दिल में जगह कम ही बना पाता है।।
बच्चों को अपना सबकुछ देकर भी सदैव जो और भी देना चाहता है।
खुली आंखों से जो देखे सपने वही जगत में बुरा या अच्छा पिता कहलाता है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
4 Likes · 380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
6. *माता-पिता*
6. *माता-पिता*
Dr Shweta sood
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
वो तो एक पहेली हैं
वो तो एक पहेली हैं
Dr. Mahesh Kumawat
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
VINOD CHAUHAN
कीजै अनदेखा अहम,
कीजै अनदेखा अहम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2456.पूर्णिका
2456.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इंसान को,
इंसान को,
नेताम आर सी
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
आदम का आदमी
आदम का आदमी
आनन्द मिश्र
*** मैं प्यासा हूँ ***
*** मैं प्यासा हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
*अद्‌भुत है अनमोल देह, इसकी कीमत पह‌चानो(गीत)*
Ravi Prakash
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
कितना आसान है मां कहलाना,
कितना आसान है मां कहलाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरी समझ में आज तक
मेरी समझ में आज तक
*प्रणय प्रभात*
बेटी
बेटी
Akash Yadav
सिंदूर..
सिंदूर..
Ranjeet kumar patre
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
शेखर सिंह
* मिल बढ़ो आगे *
* मिल बढ़ो आगे *
surenderpal vaidya
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
एक आंसू
एक आंसू
Surinder blackpen
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
दो धारी तलवार
दो धारी तलवार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
*अभी तो रास्ता शुरू हुआ है.*
*अभी तो रास्ता शुरू हुआ है.*
Naushaba Suriya
एक दिन
एक दिन
Harish Chandra Pande
Loading...