Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2016 · 1 min read

पिता

पिता ! आप विस्तृत नभ जैसे,
मैं निःशब्द भला क्या बोलूं.
देख मेरे जीवन में आतप,
बने सघन मेघों की छाया.
ढाढस के फूलों से जब तब,
मेरे मन का बाग़ सजाया.
यही चाहते रहे उम्र भर
मैं सुख के सपनो में डोलूं.
कभी सख्त चट्टान सरीखे,
कभी प्रेम की प्यारी मूरत।
कल्पवृक्ष मेरे जीवन के !
पूरी की हर एक जरूरत।
देते रहे अपरिमित मुझको,
सरल नहीं मैं उऋण हो लूँ।
स्मृतियों की पावन भू पर,
पिता, आपका अभिनन्दन है।
शत-शत नमन, वंदना शत-शत,
श्रद्धा से नत यह जीवन है।
यादों की मिश्री ले बैठा,
मैं मन में जीवन भर घोलूँ।
— त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 3 Comments · 561 Views
You may also like:
मनमोहन मुरलीवाला(10मुक्तकों का माला)
लक्ष्मी सिंह
चश्में चरागा कर दिया।
Taj Mohammad
तूफान हूँ मैं
Aditya Prakash
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
करता यही हूँ कामना माँ
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
दोस्ती और दुश्मनी
shabina. Naaz
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️एक तारा आसमाँ से टूटा था✍️
'अशांत' शेखर
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
💐योगं विना मुक्ति: नः💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देश की लानत
Shekhar Chandra Mitra
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
खत्म हुआ मतदान अब
विनोद सिल्ला
ख़्वाहिश है की फिर तुझसे मुलाक़ात ना हो, राहें हमारी...
Manisha Manjari
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️नीली जर्सी वालों ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
तुम और बातें।
Anil Mishra Prahari
वक़्त ने वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
भोजन
Vikas Sharma'Shivaaya'
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
Loading...