Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

पिता

पिता! ही मेरी हर समस्या का हल हैं।
पिता! आज मेरे पिता! ही तो कल हैं।।

पिता! मेरी आंखें
पिता! मेरे पर हैं।
पिता ही तो मेरी
हर खुशियों का घर हैं।।

पिता! ही हैं जन्नत पिता! ही महल हैं।

पिता! इस धरा पर
हैं भगवान देखो।
पिता! की ये काया
में रहमान देखो।।
पिता! मेरी गीली ये आंखों का जल हैं।

पिता! मेरी ताकत
पिता! ही सहारा।
पिता! ही है कश्ती
पिता! ही किनारा।।
पिता! मेरा साहस पिता! मेरे बल हैं।
पिता! ही मेरी हर समस्या का हल।।

Language: Hindi
251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
स्याह एक रात
स्याह एक रात
हिमांशु Kulshrestha
*किसी कार्य में हाथ लगाना (हास्य व्यंग्य)*
*किसी कार्य में हाथ लगाना (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
"शाम-सवेरे मंदिर जाना, दीप जला शीश झुकाना।
आर.एस. 'प्रीतम'
زندگی کب
زندگی کب
Dr fauzia Naseem shad
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
दुर्योधन को चेतावनी
दुर्योधन को चेतावनी
SHAILESH MOHAN
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी ऐसा लगता है
Suryakant Dwivedi
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
2694.*पूर्णिका*
2694.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेहतर है गुमनाम रहूं,
बेहतर है गुमनाम रहूं,
Amit Pathak
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*प्रणय प्रभात*
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"आत्मकथा"
Rajesh vyas
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
Loading...