Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 22, 2022 · 1 min read

पिता

पिता का साया मानो घने पेड़ का साया
उसके तले ढेर सारी छाया और फलों का अंबार
सर पर आशीष का हाथ सदा ही पाया
एक एक चाहत पर करते अपनी जान न्यौछावर
बचपन से ही नसीब ने छीना वह सरमाया
बदनसीबी ने आकर यह अजीब जाल बिछाया
हाथ छोड़ चल दिए फलक पर बनने सितारा
अपनी सुंदर चमक से रोशन कर हमें हर्षाया
चमक चमक कर मेरी डगर को किया आलोकित
कैसे बखान करूं उनके प्रेम की रिमझिम फुहार
अंधेरे से जूझते हुए चले हम उजालों की ओर
हकीकत में उन्होंने दिल का पन्ना कोरा ही छोड़ा
जननी की आंखों से हमने संसार है निहारा
कभी जमीं और कभी आसमां को नदारद पाया
सही कहा सभी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता
प्रसन्न रहे रब की रजा पर उसी को बागवान बनाया
प्रभु द्वारा बनाए चमन में महक रहा मेरा जीवन ।।

2 Likes · 2 Comments · 60 Views
You may also like:
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
कभी कभी।
Taj Mohammad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
खींच तान
Saraswati Bajpai
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविराज
Buddha Prakash
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...