Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2022 · 1 min read

पिता

पिता का साया मानो घने पेड़ का साया
उसके तले ढेर सारी छाया और फलों का अंबार
सर पर आशीष का हाथ सदा ही पाया
एक एक चाहत पर करते अपनी जान न्यौछावर
बचपन से ही नसीब ने छीना वह सरमाया
बदनसीबी ने आकर यह अजीब जाल बिछाया
हाथ छोड़ चल दिए फलक पर बनने सितारा
अपनी सुंदर चमक से रोशन कर हमें हर्षाया
चमक चमक कर मेरी डगर को किया आलोकित
कैसे बखान करूं उनके प्रेम की रिमझिम फुहार
अंधेरे से जूझते हुए चले हम उजालों की ओर
हकीकत में उन्होंने दिल का पन्ना कोरा ही छोड़ा
जननी की आंखों से हमने संसार है निहारा
कभी जमीं और कभी आसमां को नदारद पाया
सही कहा सभी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता
प्रसन्न रहे रब की रजा पर उसी को बागवान बनाया
प्रभु द्वारा बनाए चमन में महक रहा मेरा जीवन ।।

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट  हो गया है
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट हो गया है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ बहुएँ ससुराल में
कुछ बहुएँ ससुराल में
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
हम कितने आजाद
हम कितने आजाद
लक्ष्मी सिंह
*यह रोने की बात नहीं है,मरना नियम पुराना (गीत)*
*यह रोने की बात नहीं है,मरना नियम पुराना (गीत)*
Ravi Prakash
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
ऐसे खोया हूं तेरी अंजुमन में
Amit Pandey
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-264💐
💐प्रेम कौतुक-264💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
■ उलझाए रखो देश
■ उलझाए रखो देश
*Author प्रणय प्रभात*
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
लोरी
लोरी
Shekhar Chandra Mitra
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
आदमी खरीदने लगा है आदमी को ऐसे कि-
Mahendra Narayan
2225.
2225.
Dr.Khedu Bharti
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
** शिखर सम्मेलन **
** शिखर सम्मेलन **
surenderpal vaidya
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
हमने ख़ामोशियों को
हमने ख़ामोशियों को
Dr fauzia Naseem shad
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बहाव के विरुद्ध कश्ती वही चला पाते जिनका हौसला अंबर की तरह ब
बहाव के विरुद्ध कश्ती वही चला पाते जिनका हौसला अंबर की तरह ब
Dr.Priya Soni Khare
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
नव लेखिका
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...