Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2022 · 1 min read

पिता

पिता,
मेरे सिर की छत,
मन की सुरक्षित ढ़ाल हैं ।
उड़ान मेरे हौंसलों की,
अस्तित्व की पहचान हैं ।
मन में जो दृढ़ता भरे
मजबूत वो स्तम्भ हैं ।
मेरे प्रेरणा उद्गम वही
जीवन का वो आरम्भ हैं ।
आशाओं के सब द्वार हैं ।
ईश का उपहार हैं ।
है जहां मुझको सुलभ सब
वो मेरा संसार हैं ।
पिता का है संग जिस पथ
वहां निश्चित जीत है ।
काल भी रूख मोड़ लेता
हारती हर भीत है ।
हाथ जो सिर पर तुम्हारा
फिर कहो मैं क्या वरूं
आधिपत्य कर हर चाह पर
सौभाग्य की स्वामिनी बनूं ।

मौलिक स्वरचित कृति
सरस्वती बाजपेई
कानपुर नगर

Language: Hindi
Tag: कविता
12 Likes · 25 Comments · 503 Views
You may also like:
रास्ता
Anamika Singh
'चिराग'
Godambari Negi
दिल बंजर कर दिया है।
Taj Mohammad
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Shailendra Aseem
" रब की कलाकृति "
Dr Meenu Poonia
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
ये निम खामोशी तुम्हारी ( पूर्व प्रधान मंत्री श्री अटल...
ओनिका सेतिया 'अनु '
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Dr.Priya Soni Khare
*अभी भी याद आते हैं, बरातों वाले दिन साहिब(मुक्तक)*
Ravi Prakash
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मजदूर -भाग -एक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ऐ लड़की!
Shekhar Chandra Mitra
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️पिता:एक किरण✍️
'अशांत' शेखर
प्रकृति के साथ जीना सीख लिया
Manoj Tanan
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
पुनर्पाठ : एक वर्षगाँठ
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...