Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2022 · 1 min read

पिता

पिता,
मेरे सिर की छत,
मन की सुरक्षित ढ़ाल हैं ।
उड़ान मेरे हौंसलों की,
अस्तित्व की पहचान हैं ।
मन में जो दृढ़ता भरे
मजबूत वो स्तम्भ हैं ।
मेरे प्रेरणा उद्गम वही
जीवन का वो आरम्भ हैं ।
आशाओं के सब द्वार हैं ।
ईश का उपहार हैं ।
है जहां मुझको सुलभ सब
वो मेरा संसार हैं ।
पिता का है संग जिस पथ
वहां निश्चित जीत है ।
काल भी रूख मोड़ लेता
हारती हर भीत है ।
हाथ जो सिर पर तुम्हारा
फिर कहो मैं क्या वरूं
आधिपत्य कर हर चाह पर
सौभाग्य की स्वामिनी बनूं ।

मौलिक स्वरचित कृति
सरस्वती बाजपेई
कानपुर नगर

12 Likes · 25 Comments · 676 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
"प्रेम सपन सलोना सा"
Dr. Kishan tandon kranti
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-156💐
💐प्रेम कौतुक-156💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan sarda Malu
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
■ शर्म भी कर लो छुटभैयों!!
*Author प्रणय प्रभात*
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
*दल के भीतर दलबदलू-मोर्चा (हास्य व्यंग्य)*
*दल के भीतर दलबदलू-मोर्चा (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
खेल खिलौने वो बचपन के
खेल खिलौने वो बचपन के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्शय चला
दर्शय चला
Yash Tanha Shayar Hu
"शेष पृष्ठा
Paramita Sarangi
तुमसे इश्क करके हमने
तुमसे इश्क करके हमने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
समाज के बदल दअ
समाज के बदल दअ
Shekhar Chandra Mitra
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
Sidhartha Mishra
माँ तेरे चरणों मे
माँ तेरे चरणों मे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नज़राना
नज़राना
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
जिन पर यकीं था।
जिन पर यकीं था।
Taj Mohammad
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
कल्पना ही कविता का सृजन है...
कल्पना ही कविता का सृजन है...
'अशांत' शेखर
Loading...