Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

पिता के पदचिह्न (कविता)

पिता के पदचिह्न
राह सत्य की बड़ी कठिन है
कोशिश करके चलते रहना
आगे-आगे पिता चलेंगे
तुम पद चिन्हों पर चलना

यदि तपोगे स्वर्ण बनोगे
द्रवित होकर ढलते रहना
सहनशक्ति से बनोगे अर्चा
नही सड़क पर डलते रहना
©दुष्यन्त ‘बाबा’

437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ਤਰੀਕੇ ਹੋਰ ਵੀ ਨੇ
ਤਰੀਕੇ ਹੋਰ ਵੀ ਨੇ
Surinder blackpen
(10) मैं महासागर हूँ !
(10) मैं महासागर हूँ !
Kishore Nigam
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
गरीबों की झोपड़ी बेमोल अब भी बिक रही / निर्धनों की झोपड़ी में सुप्त हिंदुस्तान है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
आभा पंखी से बढ़ी ,
आभा पंखी से बढ़ी ,
Rashmi Sanjay
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
Be with someone who motivates you to do better in life becau
Be with someone who motivates you to do better in life becau
पूर्वार्थ
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
Ravi Prakash
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
*प्यार तो होगा*
*प्यार तो होगा*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
Bhupendra Rawat
दोहा-*
दोहा-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हिंदी पखवाडा
हिंदी पखवाडा
Shashi Dhar Kumar
#क्षमा_वीरस्य_भूषणम
#क्षमा_वीरस्य_भूषणम
*Author प्रणय प्रभात*
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...