Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2022 · 1 min read

पिता की व्यथा

पिता की व्यथा
~~°~~°~~°
जब पड़ी हो मार जग में,अपने ही हित को साधने ,
क्या कोई नचिकेता खड़ा होगा,फिर से यम के सामने।

जब पिता पुत्र की राहें अलग,तन्हा अकेला रूह भी , अन्जान सा दिखता है,यदि बैठा हुआ भी हो सामने।
शब्द खलते हैं हृदय में , सत्य वचन बुजुर्गों के सभी,
जिसे सुनने को लालायित कभी,होते बहुत कुछ मायने।

जब पड़ी हो मार जग में,अपने ही हित को साधने ,
क्या कोई नचिकेता खड़ा होगा,फिर से यम के सामने।

भोर का तारा दिखे नभ, कलरव को जाते खग सभी,
कर्त्तव्यपथ सुत उठ खड़े हो,रह गए हैं आज इने गिने।
साधन हुआ उन्नत धरा पर,साधक नहीं दिखते तभी ,
विज्ञान युग में ज्ञान शिथिल है,पिता सुन रहे बस धड़कने।

जब पड़ी हो मार जग में,अपने ही हित को साधने ,
क्या कोई नचिकेता खड़ा होगा,फिर से यम के सामने।

नेत्र लज्जित स्वर भी कम्पित,से धरा अब झुक रही,
हो रही है अब मिलावट, रिश्तें अनोखे जो,थे थामने।
खोट दिलों में है नहीं पर,संस्कार बदलती क्यूँ जा रही,
भाव पूरित अश्रु बहाने, लो अब मैं आ गया हूँ सामने ।

जब पड़ी हो मार जग में,अपने ही हित को साधने ,
क्या कोई नचिकेता खड़ा होगा,फिर से यम के सामने।

मौलिक एवं स्वरचित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २४ /०४ /२०२२

Language: Hindi
Tag: गीत
12 Likes · 20 Comments · 889 Views
You may also like:
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
यादें
kausikigupta315
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema 'Tu hai na'
एक वह है और एक आप है
gurudeenverma198
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
भारत का संविधान
rkchaudhary2012
सरकारी चिकित्सक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"उलझी हुई जिन्दगानी"
MSW Sunil SainiCENA
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
रहे मुहब्बत सदा ही रौशन..
अश्क चिरैयाकोटी
" सहमी कविता "
DrLakshman Jha Parimal
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
रोटी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
बख़्श दी है जान मेरी, होश में क़ातिल नहीं है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
सच्चा प्यार
Anamika Singh
कविता
Ravi Prakash
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
मजदूर की रोटी
AMRESH KUMAR VERMA
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
तू नहीं तो कौन?
bhandari lokesh
Loading...