Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2022 · 1 min read

पिता की व्यथा

पिता की व्यथा
~~°~~°~~°
जब पड़ी हो मार जग में,अपने ही हित को साधने ,
क्या कोई नचिकेता खड़ा होगा,फिर से यम के सामने।

जब पिता पुत्र की राहें अलग,तन्हा अकेला रूह भी , अन्जान सा दिखता है,यदि बैठा हुआ भी हो सामने।
शब्द खलते हैं हृदय में , सत्य वचन बुजुर्गों के सभी,
जिसे सुनने को लालायित कभी,होते बहुत कुछ मायने।

जब पड़ी हो मार जग में,अपने ही हित को साधने ,
क्या कोई नचिकेता खड़ा होगा,फिर से यम के सामने।

भोर का तारा दिखे नभ, कलरव को जाते खग सभी,
कर्त्तव्यपथ सुत उठ खड़े हो,रह गए हैं आज इने गिने।
साधन हुआ उन्नत धरा पर,साधक नहीं दिखते तभी ,
विज्ञान युग में ज्ञान शिथिल है,पिता सुन रहे बस धड़कने।

जब पड़ी हो मार जग में,अपने ही हित को साधने ,
क्या कोई नचिकेता खड़ा होगा,फिर से यम के सामने।

नेत्र लज्जित स्वर भी कम्पित,से धरा अब झुक रही,
हो रही है अब मिलावट, रिश्तें अनोखे जो,थे थामने।
खोट दिलों में है नहीं पर,संस्कार बदलती क्यूँ जा रही,
भाव पूरित अश्रु बहाने, लो अब मैं आ गया हूँ सामने ।

मौलिक एवं स्वरचित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २४ /०४ /२०२२

12 Likes · 20 Comments · 1565 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
गर्व की बात
गर्व की बात
Er. Sanjay Shrivastava
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
खत
खत
Punam Pande
अशोक चाँद पर
अशोक चाँद पर
Satish Srijan
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
अंदर का चोर
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
विपक्ष आत्मघाती है
विपक्ष आत्मघाती है
Shekhar Chandra Mitra
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
फिर मिलेंगे
फिर मिलेंगे
साहित्य गौरव
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
Arvind trivedi
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आप भी करें कौशल विकास।😊😊
■ आप भी करें कौशल विकास।😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
gurudeenverma198
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कलेजा फटता भी है
कलेजा फटता भी है
Paras Nath Jha
Loading...