Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

पिता का यूं चले जाना,

पिता का यूं चले जाना,
आंगन के पेड़ का गिर जाना होता है

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
6
6
Davina Amar Thakral
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
कोई तो मेरा अपना होता
कोई तो मेरा अपना होता
Juhi Grover
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*प्रणय प्रभात*
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
इक दुनिया है.......
इक दुनिया है.......
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तारीफ आपका दिन बना सकती है
तारीफ आपका दिन बना सकती है
शेखर सिंह
हरा नहीं रहता
हरा नहीं रहता
Dr fauzia Naseem shad
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
हे राम तुम्हारे आने से बन रही अयोध्या राजधानी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"समझाइश "
Yogendra Chaturwedi
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ओस
ओस
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राष्ट्रीय किसान दिवस
राष्ट्रीय किसान दिवस
Akash Yadav
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
gurudeenverma198
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
रास्तों पर चलते-चलते
रास्तों पर चलते-चलते
VINOD CHAUHAN
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...