Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

पास नहीं

#दिनांक:- 8/8/2023
#शीर्षक:- मन मेरा मेरे पास नहीं

चलो आज पीछे चलते हैं,
जहॉ से बडी मुश्किल से निकले थे,
पुनः उसी में खोते हैं,
फसाने सबके रहे होगें ,
दिवाने, दिवानी सभी के रहे होंगे,
चन्द दिनों की खुशी,
भर आंचल मिला होगा,
बेहतरीन जीवन के कुछ क्षण,
खुलकर जिये होंगे
उसी की याद में,
दिनभर खोये खोये,
रात रात भर चाहा होगा,
प्रियतम के बॉहों में सोये,
मीठे पल बड़े हसीन,
आज भी लगते हैं,
दर्द बहुत मासूम हँसी,
हँसने लगते हैं,
आह ,
मन मेरा मेरे पास नहीं ,
दिलदार के पास दिल लेकर गया,
पहली मुलाकात,
धीर-धीरे आगे बढ़ी बात,
ख़ुशनुमा लगने लगा सारा जहाँ ,
मैं बावरी बन उसके पीछे चलूॅ,
कभी समेट लूॅ,
तो कभी खुद को खोलूॅ ,
एकाकीपन दूर ना जाने कहाँ खो गये ,
हम तो बस,
स्वप्निल बाँहों में खो गए ,
जीवन की ये असीम खुशी थी ,
इसके पहले और बाद ,
जीवन गमगीन था,
आज भी उसकी यादों में,
जब खो जाती हूँ
सारे गम भुला कर,
फिर सो जाती हूँ |

रचना मौलिक, अप्रकाशित, स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है|

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
Rj Anand Prajapati
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लड़ाई
लड़ाई
Dr. Kishan tandon kranti
2848.*पूर्णिका*
2848.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
अलविदा
अलविदा
Dr fauzia Naseem shad
🌱कर्तव्य बोध🌱
🌱कर्तव्य बोध🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
पिता का गीत
पिता का गीत
Suryakant Dwivedi
यदि मन में हो संकल्प अडिग
यदि मन में हो संकल्प अडिग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िंदगी से शिकायतें बंद कर दो
ज़िंदगी से शिकायतें बंद कर दो
Sonam Puneet Dubey
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
*पीते-खाते शौक से, सभी समोसा-चाय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
हौसला
हौसला
डॉ. शिव लहरी
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
#क़तआ / #मुक्तक
#क़तआ / #मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
क्यों गुजरते हुए लम्हों को यूं रोका करें हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
****बसंत आया****
****बसंत आया****
Kavita Chouhan
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
Neelam Sharma
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
याद आती है
याद आती है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
"You can still be the person you want to be, my love. Mistak
पूर्वार्थ
Loading...