Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

पास आएगा कभी

** गीतिका **
~~
आस है वो मुस्कुराता पास आएगा कभी।
याद बीते वक्त की ताज़ा कराएगा कभी।

भूलकर नादानियां सारी पुरानी एक दिन।
स्नेह से आवाज देकर फिर बुलाएगा कभी।

देखकर आती बहारें फूल मनभावन खिले।
स्वप्न आंखों में मधुर फिर से सजाएगा कभी।

ठोकरों में खो गई थी चाहतें मन की मधुर।
सुप्त मन की भावनाओं को जगाएगा कभी।

भूल सब स्वीकार कर लेगा सभी के सामने।
तब सहज हर एक को वह खूब भाएगा कभी।

क्यों भला हर हाल में वह मस्त रहता है सदा।
ठान लेगा मुश्किलें हल कर दिखाएगा कभी।

दूरियां उसने बनाई क्यों हमारे बीच में।
है मगर विश्वास भी पलकें बिछाएगा कभी।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मंण्डी (हिमाचल प्रदेश)

1 Like · 262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
गुरु महिमा
गुरु महिमा
विजय कुमार अग्रवाल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
3345.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3345.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
इस शहर में
इस शहर में
Shriyansh Gupta
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
Radhakishan R. Mundhra
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
*प्रणय प्रभात*
*समृद्ध भारत बनायें*
*समृद्ध भारत बनायें*
Poonam Matia
वक्त सा गुजर गया है।
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
*लक्ष्मीबाई वीरता, साहस का था नाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
सच कहूं तो
सच कहूं तो
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
स्त्री की स्वतंत्रता
स्त्री की स्वतंत्रता
Sunil Maheshwari
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
जीवन
जीवन
Mangilal 713
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
Monika Arora
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सत्संग
सत्संग
पूर्वार्थ
Loading...