Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 1 min read

पाप का भागी

पाप का भागी

“राम-राम पंडित जी।”
“राम-राम सरपंच जी।”
“पंडित जी, रहने दीजिए। आप क्यों झाड़ू लगा रहे है। मैं स्वीपर बुलाया हूँ। वह कल सुबह आकर सफाई कर देगा। आप यूँ सफाई करेंगे, तो हमें पाप चढ़ेगा।”
“सरपंच जी, स्वीपर अपने टाइम पर आएगा सफाई करने। आज के रथ यात्रा में लगे मेले के कारण यहाँ बिखरे पड़े ये प्लास्टिक के बॉटल, कैरी बैग्स और पेपर-प्लेट्स, जिनमें खाने-पीने की चीजें लगी हैं, तुरंत न हटाएँ, तो निरीह जानवर इन्हें खाकर बीमार पड़ सकते हैं। मर भी सकते हैं। उसका पाप नहीं लगेगा हमें ?”
“ओह, हाँ, ये तो मैंने सोचा ही नहीं। रुकिए, मैं भी एक झाड़ू लेकर आता हूँ।”
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
हाइकु- शरद पूर्णिमा
हाइकु- शरद पूर्णिमा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
Poonam Matia
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
इन हवाओं को महफूज़ रखना, यूं नाराज़ रहती है,
इन हवाओं को महफूज़ रखना, यूं नाराज़ रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*चलिए बाइक पर सदा, दो ही केवल लोग (कुंडलिया)*
*चलिए बाइक पर सदा, दो ही केवल लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#कहानी-
#कहानी-
*प्रणय प्रभात*
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
*इस कदर छाये जहन मे नींद आती ही नहीं*
*इस कदर छाये जहन मे नींद आती ही नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
मुकाबला करना ही जरूरी नहीं......
मुकाबला करना ही जरूरी नहीं......
shabina. Naaz
वक्त का क्या है
वक्त का क्या है
Surinder blackpen
जो प्राप्त है वो पर्याप्त है
जो प्राप्त है वो पर्याप्त है
Sonam Puneet Dubey
2765. *पूर्णिका*
2765. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
पूर्वार्थ
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
Dr.Pratibha Prakash
Loading...