Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी

आंसुओं के सैलाब जो बांध लेते हैं पलकों के किनारों से
डबडबाई आंखों को देख खुद को रोने से न रोक पाऊंगी मैं
पापा आप इतनी बहादुर नहीं हो पाऊंगी मैं ।
जिसने इस काबिल बनाया कि कुछ बोल सकूं
उन्हें शब्दों की कारीगरी का आईना नहीं दिखा पाऊंगी मैं पापा इतनी महान लेखिका नहीं बन पाऊंगी मैं ।
पापा की परी ,लाडली ,राजकुमारी ऐसे नामों से बुलाते हैं
प्रेम का अथाह सागर मन में दबा सख्त व्यवहार ना दिखा पाऊंगी मैं
पापा इतना स्नेह हृदय में न छुपा पाऊंगी मैं।
मेरी हर सफलता का आधार बन, शीर्ष पर पहुंचाते हैं
नींव की तरह अदृश्य रहते एहसान भी नहीं जताते हैं
जरा में अपनी बड़ाई करने वाली स्वयं को महत्वहीन न कह पाऊंगी मैं
पापा आप जितनी श्रेष्ठता नहीं ला पाऊंगी मैं।
अपनी हर इच्छाएं हमारे शौक पर निछावर कर देते हैं
सर पर हाथ रखकर हिम्मत की छत बना देते हैं
मैं हूं ना कहकर परेशानियों को रुला देते हैं
कभी जो थकने लगी बिन सहारे आपके कैसे उठ पाऊंगी मैं
पापा आप जितनी जीवट नहीं हो पाऊंगी मैं ।
एड़ियों को घिस कर अपनी हमारी हाथों की लकीरें चमकाते हैं
जिंदगी की धूप में तप कर हमारे ख्वाबों का महल बनाते हैं
जीवन जलाकर अपना दूसरो को प्रकाशित नहीं कर पाऊंगी मैं
पापा आप जितनी बलिदानी नहीं हो पाऊंगी मैं।

Language: Hindi
2 Likes · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
*प्रणय प्रभात*
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Chahat
23/94.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/94.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Mukesh Kumar Sonkar
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
Manisha Manjari
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इसी साहस की बात मैं हमेशा करता हूं।।
इसी साहस की बात मैं हमेशा करता हूं।।
पूर्वार्थ
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
तुमसे मिलने पर खुशियां मिलीं थीं,
तुमसे मिलने पर खुशियां मिलीं थीं,
अर्चना मुकेश मेहता
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
इतनी नाराज़ हूं तुमसे मैं अब
Dheerja Sharma
उमर भर की जुदाई
उमर भर की जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कौन्तय
कौन्तय
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"अंधेरों को बढ़ाया जा रहा है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"मुसाफ़िर"
Dr. Kishan tandon kranti
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
काश तुम आती मेरी ख़्वाबों में,
काश तुम आती मेरी ख़्वाबों में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
.........,
.........,
शेखर सिंह
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
Nitesh Shah
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...