Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 2, 2016 · 1 min read

पानी की बून्द!

सागर कहलाती हो तुम होकर भी पानी की बून्द
मत होना अलग तुम सागर से कभी भी
तुम्हारा अस्तित्व जुड़ा है इसी से
सागर में तुम समाहित हो
जिस दिन अलग होओगी
बून्द बन जाओगी
बून्द कहलाओगी
जब तक सागर के साथ हो तब तक
सागर की लहरो में मचल रही हो
सुनामी बन कहर ढहा रही हो
ज्वार भाटे का आनन्द ले पा रही हो
कभी शांत बन दुनिया को
एक आदर्श के रूप में दिख रही हो
दुनियां के तिहाई क्षेत्र पर तुम्हारा अधिकार है
मौजों में उठती गिरती हो,
समुन्द्र में हो सकता है कुछ तकलीफे हो तुम्हे
पर प्यारी बूँद तुम भारतीय नारी की भांति
समर्पण त्याग साहस की गाथा को दोहराना
सागर से अलग मत होना
नहीं तो बून्द बन जाओगी
अभी तुम्हारे खुद के मस्तक पर
सागर के नाम की बिंदियाँ तुम्हारी पहचान है
” दिनेश”
क्रमशः

1 Comment · 248 Views
You may also like:
मेरी छवि
Anamika Singh
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
Love Heart
Buddha Prakash
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
इश्क ए उल्फत।
Taj Mohammad
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
ठिकरा विपक्ष पर फोडा जायेगा
Mahender Singh Hans
परदेश
DESH RAJ
रास्ता
Anamika Singh
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️वो मील का पत्थर....!
"अशांत" शेखर
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H. Amin
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
"अशांत" शेखर
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बोन्साई✍️
"अशांत" शेखर
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...