Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 1 min read

पाति है प्यार की

पाति है प्यार की :-
**************
पहली पहली बार जब पाति आती है प्यार की
फुली नही समाती हूॅ और दिल की धड़कन तीव्रगति सी हो जाती है ।मुरझायें से फूल में मुस्कान आ जाती है ।
मीठे प्यार की मीठी सी अनुभूति भुलाये नही भुलती हूॅ
न उसने मेरा रुप रंग देखा और न गुण अवगुण देखा
बस देखा बस दिल से दिल की चाहत को देखा
घर आकर भी चैन नहीं ,ऑखो में बस गयी वो छवि
वो सम्मोहक नजरे पीछा कर रही थी ।
भूख प्यास सब कुछ नदारद
ऐसा लगा मुझे कि कोई जन्मों का बिछड़ा साथी मिल गया हो
उन प्रेममयी ऑखों से प्रेम का सागर लहरा रहा था
घर आकर देखा जब मैने अपने आपको आईने में तो दंग रहगयी ।अरे !यह आखें मेरी है ही नही उसमें तो ‘वो’ भी है
जिधर देखूॅ वही नजर आता है
सवर्त्र प्रेम का रंग ,हर चेहरा उसी का चेहरा मुस्कुराता व खिलखिलाता नजर आने लगा ।
मन मुग्ध व दिल हर्षित सा रहने लगा ।
*********ममता गिनोड़िया****

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 720 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
बेटियाँ
बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
डायरी भर गई
डायरी भर गई
Dr. Meenakshi Sharma
💐अज्ञात के प्रति-122💐
💐अज्ञात के प्रति-122💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
Anil Mishra Prahari
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
shabina. Naaz
■ #यादों_का_आईना
■ #यादों_का_आईना
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
Mahendra Narayan
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
"आखिरी निशानी"
Dr. Kishan tandon kranti
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
बस कुछ दिन और फिर हैप्पी न्यू ईयर और सेम टू यू का ऐसा तांडव
Ranjeet kumar patre
कुछ मत कहो
कुछ मत कहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
23/126.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/126.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
इस मुद्दे पर ना खुलवाओ मुंह मेरा
कवि दीपक बवेजा
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
सत्संग शब्द सुनते ही मन में एक भव्य सभा का दृश्य उभरता है, ज
पूर्वार्थ
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
Loading...