Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2021 · 3 min read

पहाड़ का अस्तित्व – पहाड़ की नारी

नारी के बिना पहाड़ अधूरा – या यहां यह कहना गलत नहीं होगा कि पहाड़ का अस्तित्व ही नारी के कारण टिका हुआ है यदि पहाड़ों से कुछ हद तक पलायन रुका है तो उसमें पहाड़ों की नारी की भूमिका हमेशा पुरुषों से आगे है और भविष्य में भी आगे ही रहेगी ।
हमारे पहाड़ों की नारी की दिनचर्या हमेशा सूर्य के प्रातः की लालिमा कै घर मैं दस्तक देने से पहले से ही प्रारंभ हो जाती है, सुबह-सुबह मौसम चाहे बरसात का हो या गर्मी या पहाड़ों की रूह और हाथों कौ कंपन करने वाली ठंड का हि क्यों नहीं हो,, घर के कार्य करने की दिनचर्या – सूर्य के घरों में आते हुए किरणों से पहले ही प्रारंभ हो जाती है ।

चाहे वह कार्य किसी भी प्रकार का क्यों ना हो सूर्योदय से पहले ” नह ” से पानी लाना अथवा गाय का दूध या गाय भैंस और अन्य जानवरों को चारा देने का ही कार्य क्यों न हो ।
उसके बाद घर के चूल्हा – चौकी या दूसरे ही काम क्यों ना हो यदि इस बीच में पहाड़ों की नारी को अपने लिए समय निकला तो सही वरना खेतों का कार्य प्रारंभ हो जाता है ।
“नारी और पुरुष का स्वभाव हमेशा एक दूसरे के विपरीत होता है” पुरुष प्रधान समाज अपने काम के साथ-साथ अपने लिए खेल व मनोरंजन का वक्त भी निकाल लेता है, वहीं इसके विपरीत “नारी ” सिर्फ अपने कार्यों को ही पहली प्राथमिकता देती है ।
पहाड़ों की नारी की महत्वता का पूर्वालोकन इसी बात से लगाया जा सकता है कि मौसम चाहे कोई भी हो परंतु पहाड़ों की नारी का कार्य कभी भी समाप्त नहीं होता, चाहे वह “शरद ऋतु ” में प्रात: उठने के बाद दूर -दूर शरीर व मन को थकान कर देने वाले घनघोर जंगलों से लकड़ी लाने का कार्य हो या, “जैठ की जमीन को तप – तपाति ग्रीष्म ऋतु ” में खेतों में कभी बैठकर तो कभी – घंटों आधि कमर झुका कर खेतों में कृषि करनै का कोई भी कार्य क्यों ना हो ।

इसके विपरीत शहरों में मौसम से बचाव के लिए हर सुख सुविधा की सहूलियत होती है चाहे वह घर, ऑफिस मैं AC, कूलर, या मौसम के अनुरूप तरल पेय पदार्थ का सेवन ही क्यों ना हो ।
खेतों का कार्य पूर्ण करके व थकान से चकनाचूर होने के बावजूद भी घर को आते हुए पहाड़ों की नारी अपने साथ कुछ न कुछ सामान या अपने सर पर कुछ न कुछ समान लाते हुए हमेशा दिखाई देगी । जहां थकान से चकनाचूर होने के बावजूद “एक तिनका उठाना भी मनुष्य को लोहे का समान लगता है ” वहीं इसके विपरीत पहाड़ों की नारी की दिनचर्या अपने आप में – एक अमूल्य योगदान को परिभाषित करने वाली होती है ।
यहां पर हमारे गाँव के शाही जी द्वारा कुछ लाइनें पहाड़ों की नारी के ऊपर एकदम सटीक बैठती है- “यू क्षि हमार पहाड़ां सैंणि शेर समाना”
पहाड़ों में रहने वाली पहाड़ों से भी मजबूत इरादों वाली पहाड़ों की नारी को मेरा शत-शत प्रणाम !!

कैसे सुनाऊं – पहाड़ों की नारी की यह व्यथा,
हाथ में दातुल, कमर मैं कुटव,
चेहरे पर थकान का ना कोई नामोनिशां !!

1 Like · 1 Comment · 644 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गंदा है क्योंकि अब धंधा है
गंदा है क्योंकि अब धंधा है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
इंसान जीवन क़ो अच्छी तरह जीने के लिए पूरी उम्र मेहनत में गुजा
अभिनव अदम्य
Tumhari khubsurat akho ne ham par kya asar kiya,
Tumhari khubsurat akho ne ham par kya asar kiya,
Sakshi Tripathi
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
😊अपडेट😊
😊अपडेट😊
*Author प्रणय प्रभात*
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
Paras Nath Jha
"एक ख्वाब टुटा था"
Lohit Tamta
*सब जग में सिरमौर हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम (गीत)*
*सब जग में सिरमौर हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम (गीत)*
Ravi Prakash
2590.पूर्णिका
2590.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-525💐
💐प्रेम कौतुक-525💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
The wrong partner in your life will teach you that you can d
The wrong partner in your life will teach you that you can d
पूर्वार्थ
अप्प दीपो भव
अप्प दीपो भव
Shekhar Chandra Mitra
भार्या
भार्या
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नया साल लेके आए
नया साल लेके आए
Dr fauzia Naseem shad
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
सोचता हूँ  ऐ ज़िन्दगी  तुझको
सोचता हूँ ऐ ज़िन्दगी तुझको
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
"तकलीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
ईश्वर की कृपा
ईश्वर की कृपा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मीना
मीना
Shweta Soni
Loading...