Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए – संदीप ठाकुर

पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए
बा’द में रस्तों का अंदाज़ा लगाए

जाने सूरज ने नदी से क्या कहा है
बह रही है धूप का चश्मा लगाए

चाँद की आँखें बड़ी दिखने लगेंगी
रात गर सुर्मा ज़रा गहरा लगाए

मैं समुंदर के सफ़र से लौट आऊँ
वो अगर आवाज़ दोबारा लगाए

शाम का दिल कल ही टूटा आज फिर क्यों
आ गई उम्मीद का चेहरा लगाए

जंगलों में मील के पत्थर नहीं हैं
दूरियों का कौन अंदाज़ा लगाए

झाँकती है काँच से फिर धूप घर में
कह दो खिड़की से कोई पर्दा लगाए

चाँद उतरे झील में उस की बला से
चाँदनी क्यों रात-भर पहरा लगाए

मंज़िलें पहले ही सारी हार बैठा
दाँव पर रस्ता भला अब क्या लगाए

संदीप ठाकुर

Sandeep Thakur

164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सब धरा का धरा रह जायेगा
सब धरा का धरा रह जायेगा
Pratibha Pandey
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
नयनों मे प्रेम
नयनों मे प्रेम
Kavita Chouhan
गमले में पेंड़
गमले में पेंड़
Mohan Pandey
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
समाज और सोच
समाज और सोच
Adha Deshwal
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शिव आराधना
शिव आराधना
Kumud Srivastava
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
Mukesh Kumar Sonkar
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#नया_भारत 😊😊
#नया_भारत 😊😊
*प्रणय प्रभात*
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
खुशी कोई वस्तु नहीं है,जो इसे अलग से बनाई जाए। यह तो आपके कर
Paras Nath Jha
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
खुद से ज़ब भी मिलता हूँ खुली किताब-सा हो जाता हूँ मैं...!!
खुद से ज़ब भी मिलता हूँ खुली किताब-सा हो जाता हूँ मैं...!!
Ravi Betulwala
मुहब्बत हुयी थी
मुहब्बत हुयी थी
shabina. Naaz
"गुनाह कुबूल गए"
Dr. Kishan tandon kranti
मै अकेला न था राह था साथ मे
मै अकेला न था राह था साथ मे
Vindhya Prakash Mishra
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...